अजनबी की गांड चुदाई बारिश में

5 min read

अरुण की जिंदगी में बारिश से ऐसा बहार आया! कि एक अजनबी की गांड चुदाई का मौका मिला और उसके बाद Desi Sex kahani के इस कड़ी में वो अरुण के साथ ही रहने लगी।

प्रणाम दोस्तो,

मेरा नाम सागर है। मैं मेरी सेक्स स्टोरी का नियमित पाठक हूँ और सारी कहानियों को बड़े चाव के साथ पढता हूँ।

आज मुझे भी लगा, कि मैं भी अपनी एक कहानी आपके साथ शेर करूँ और यह मेरी पहली कहानी है। यह कहानी मेरे दोस्त अरुण(बदला हुआ नाम) की है।

यह बात बारिश के दिनों को है। वो दिन बहुत ही सुहाना था! चारों ओर घने बदल थे! हल्की बारिश भी हो रही थी, और अरुण कहीं आसरे की तलाश में जा रहा था।

अरुण से शाकम्बरी की पहली मुलाकात

अचानक! सामने से एक लड़की छाता लेकर आ रही थी, थोड़ी सहमी सी! जैसे वो कहीं जल्दी में थी और संयोगवश अरुण से टकरा गई, वो उन दोनों की पहली मुलाकात थी।

उन दोनों ने अपने आपको संभाला और किनारे में एक घर के कोने में खड़े हो गए। दोनों ने एक दूजे का नाम पता किया, तो उसने अपना नाम शाकम्बरी बताया।

बातों ही बातों में उसने बताया, कि वो बहुत मुश्किल में है! क्योंकि उसके मकान मलिक ने, उसे आज ही मकान खाली करने कहा है। इसी लिए वो जल्दी में कमरे की तलाश कर रही थी।

अजनबी की अजीब मनमोहक सुन्दरता

वो दिखने में बहुत मस्त थी! बारिश में! उसकी पतली कमर क्या कमाल की लग रही थी! यारों कुदरत ने जैसे उसे बहुत फ़ुर्सत से बनाया हो!

अरुण ने उससे कहा- जब तक बारिश नहीं रुक जाती, तब तक आप मेरे कमरे पर रुक सकती हो! चाहे तो फिर चले जाना। तब तक, अरुण के ख्याल ठीक थे!

अरुण के दिमाग़ में कोई ग़लत ख्याल नहीं था। वो उसे कमरे में ले गया, और उसने बदन पोंछने के लिए उसे तौलिया दिया। थोड़ी देर के लिए! अपना शर्ट दिया पहनने के लिए।

जब वो अपने बाल सूखाने लगी! तब अरुण की नज़र उसपर पड़ी। क्या कयामत लग रही थी वो!

जाने अनजाने में होंठों का चुम्बन

वो उन खुले बालों में, और शर्ट में से उसकी छाती दिख रही थी! जो अरुण को अपनी ओर आकर्षित कर रही थी! फिर उसने अपने आप को संभाला।

तभी वो थोड़ा पानी माँगने लगी। अरुण उसे पानी देने गया, तभी वो सामने आने लगी! अचानक! उसका पैर फिसला और वो सीधे अरुण के ऊपर गिरने लगी और तभी उसके होंठ अरुण के होंठों से जा टकराए!

अरुण अजनबी की चुदाई को बेताब

वो अचानक से! सपकपा गई और अरुण से दूर हो गई। मगर! अरुण पूरी तरह गरम हो गया था! और अब उसके दिमाग में उस लड़की को चोदने के अजीब से बुरे ख्याल आने लगे।

अरुण बस यही सोच रहा था! कि कैसे? इस लड़की को चोदा जाए! तभी शाकम्बरी ने एक अजीब सी मुस्कान दी! जो अरुण को दोबारा उसे उत्तेजित कर रही थी!

हालांकि! अरुण की हिम्मत नहीं हो रहो थी पहल करने की!

वो पूरी हिम्मत करके उस लड़की से पूछा- क्या आपने? पहले कभी किसी को चूमा है!

उसने हाँ! कहा और यह भी कहा, कि उसका आशिक भी है।

होंठों पर हुआ चुम्बनों का बौछार

अरुण का काम तो और आसान हो गया! उसने सीधे उसके होंठों से होंठ चिपका दिए!

वो अचानक! इस प्रक्रिया को समझ ही नहीं पाई! और अपने आपको छुड़ाने की नाकाम कोशिश कर रही थी।

मगर बाद में! वो भी अरुण का साथ देने लगी। अब अरुण ने उसकी शर्ट को निकल दिया और उसकी चूचियों को चूसने लगा!

अब वो इतनी गर्म हो गई! कि उसका हाथ अरुण के लण्ड पर चला गया! और वो भी उसे दबाने लगी।

चुदासी अजनबी ने लण्ड को चूसा

अब उसने अरुण का लण्ड बाहर निकाला और लोलीपॉप के जैसे चूसने लगी। अब वो दोनों 69 की अवस्था में थे। अब शाकम्बरी से बिल्कुल रहा नहीं जा रहा था।

उसने अजीब सी आवाज़े निकालने शुरू कर दी! बार बार बोले जा रही थी! अब मुझे चोद दो! फाड़ दो मेरी गांड को।

अरुण उसे तड़पाने में लगा हुआ था! मगर कुछ समय बाद अरुण ने उसे घोड़ी बनाया और उसकी गांड में लण्ड पेल दिया।

अजनबी की दर्दनाक गांड चुदाई

शाकम्बरी को दर्द के मारे, दिन में भी तारे नजर आने लगे! वो जोर से चिल्लाने लगी- उईई माआअ! बाप ररे! मरर गयीईइ! निकालो अपना लण्ड! मैं मरर जाऊँगीईई!

अरुण लण्ड डाले हुए ही उसकी चूचियों को जोर जोर से मसलने लगा! और धीरे धीरे लण्ड को आगे पीछे करने लगा! अब शाकम्बरी शांत हो गई और मजे लेने लगी!

अरुण अब अपने लण्ड को धीरे धीरे करते करते! तेजी से चोदने लगा! शाकम्बरी भी अब मस्ती में सिसकारियाँ लेने लगी- अहह! उफ्फ! उईई! चोद मेरे राजा! फाड़ दे मेरी गांड!

अरुण की धक्कों की रफ्तार इतनी तेज थी, कि शाकम्बरी सहन नहीं कर सकी। उसने पेशाब कर दी! कुछ देर चोदने के बाद अरुण ने उसे कुतिया की तरह बिठा दिया।

अरुण ने उसे कुतिया के तरह चोदने लगा। पूरे आधे घंटे तक! उसकी गांड और चूत दोनों मारने लगा और फिर दोनों एक साथ झड़ गए।

अजनबी मेरे साथ रोज चुदवाने लगी

दोनों ने अपने आप को साफ किया, और वो लड़की जाने लगी! तभी अरुण ने उसे कहा- अगर तुम चाहो तो यहाँ भी रह सकती हो!

शाकम्बरी भी किसी की परवाह ना करते हुए! उसके साथ रहने लगी। अब उसने अपने प्रेमी को भी छोड़ दिया और अब वो दोनों रोज चुदाई करने लगे!

दोस्तो, यह थी अरुण की आपबीती! आपको कैसी लगी? मुझे कृप्या मेल करके अपने विचार ज़रूर भेजें!
[email protected]।com

अरुण अचानक से शाकम्बरी को चूमने लगा और उसकी चूचियों को दबाने लगा। उसने थोड़ा विरोध किया, पर बाद में वो अरुण का साथ देने लगी। तब Desi Sex kahani की इस घटना में अरुण ने उसकी गांड की धकापेल चुदाई की! शाकम्बरी इतनी खुश थी, कि वो अपनी प्रेमी को छोड़कर अरुण के साथ रहने लगी और हर रात अपनी गांड चुदवाने लगी..

Written by

akash

Leave a Reply