सितम्बर 2015 की लोकप्रिय कहानियाँ

5 min read

भाई की लुगाई ने करवाई मेरी चुदाई 1

इस वक़्त, मैं 22 साल की हूँ और एक इंटरनेशनल कॉल सेंटर में काम करती हूँ।

ये मेरी नौकरी का, पहला साल है।

मैं एक स्लिम फिगर की गोरी लड़की हूँ.. लंबाई लगभग 5.5.. बाल और आँखें काली और जिसे जानने में मेल रीडर्स को सबसे ज़्यादा दिलचस्पी होगी, यानी मेरा फिगर, वो है लगभग – 32-26-34..

रोहन, मेरा भाई मुझसे एक साल बड़ा है और एक बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी में इंजिनियर है।

उसकी लम्बाई है, लगभग 5.9 और बदन सामान्य है।

मेरे पापा सरकारी नौकरी में हैं और मम्मी, हाउसवाइफ हैं।

यानी कुल मिला कर, एक सामान्य भारतीय परिवार।

हम एक डुप्लेक्स में रहते हैं।

ग्राउंड फ्लोर पर, मम्मी पापा का कमरा है और ऊपर मेरा और भाई का.. जो अंदर से, एक दरवाज़े से मिला हुआ है..

आम तौर पर, घर में 10:30 तक सब खाना खा के अपने अपने कमरे में चले जाते हैं।

आज रात भी सब नॉर्मल टाइम पर, अपने अपने कमरे में जा चुके थे।

मैं आधी नींद में थी की लगभग 11:45 को, मेरे फोन की मैसेज टोन बजी।

पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…

करके नंगी बजा दी पुंगी 1

आज काफ़ी दिनों बाद, मैं अपने गाँव वापस जा रहा था।

सबसे मिलने की उम्मीद भी थी और मैं बहुत उत्सुक भी था।

बिना किसी को बताए, मैं कॉलेज से निकल पड़ा था।

इरादा था की सबको, एक “मस्त सर्प्राइज़” दूँगा।

मैं क्या जानता था की जिंदगी खुद मुझे, एक ज़बरदस्त सर्प्राइज़ देने वाली थी।

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

मैं बिहार के एक गाँव का हूँ।

पुणे में, इंजिनियरिंग कर रहा हूँ।

उम्र 22 साल, रंग गोरा और मजबूत कद काठी।

सेक्स के बारे में, उस समय मैं ज़्यादा कुछ नहीं जानता था।

बस कभी कभार पेड़ पर, झाड़ियों में छुप कर गाँव की लड़कियों और औरतों को नहाते और उनको अपनी छातियों को मलते देखा है।

मेरी गाँव में, काफ़ी लंबी चौड़ी जमींदारी है।

बड़ी सी हवेली है। नौकर चाकर।

घर में, वैसे तो कई लोग हैं। पर, मुख्य हैं – मेरे बाबूजी, अम्मा, चाचा और चाची।

हरिया, हमारी हवेली का मुख्य नौकर है और उसकी पत्नी, किशोरी मुख्य नौकरानी।

मेरे बाबूजी, करीब 50 के होंगे और अम्मा करीब 45 की।

मेरा जन्म, इस हवेली में हुआ है और यहीं पर मैंने अपना पूरा बचपन और जवानी के कुछ साल बिताए हैं।

हरिया की उम्र, तकरीबन 40 की होगी और किशोरी की करीब 34–35 की।

उनकी बेटी भूरी की उम्र, तकरीबन 16-17 की होगी। जो की, मेरे से करीब 5 साल छोटी थी।

बचपन में, भूरी मेरे साथ ही ज़्यादातर रहती थी।

मैं उसे पढ़ाता था और हम साथ में खेला भी करते थे।

पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…

चुदाई का सफर: चूत चूत का खेल 1

शाम का वक़्त था और मैं अपने घर मे अकेली थी।

घर का कुछ काम करते हुए, मैं अपने पति का इंतज़ार कर रही थी।

शाम के करीब 5:00 बजे थे।

मेरा प्रोग्राम अपने पति के साथ, उनके ऑफीस से आने के बाद, बाजार जाने का था और हम रात का खाना बाहर ही खाने वाले थे।

मैंने करीब करीब, घर का सारा काम कर लिया था और फ्रेश होने के लिए मैंने स्नान किया।

मैं नहा कर, बाथरूम से बाहर आई.. लेकिन, मैंने तैयार होने की कोई कोशिश नहीं की।

मैं जानती थी, मेरे पति ऑफीस से आने के बाद, बाहर जाने से पहले मेरी एक “फटाफट चुदाई” ज़रूर करेंगे।

अगर, उन्होंने शुरुआत नहीं की तो क्या है, मुझे पता है की मैं ही शुरू कर दूँगी और अपने पति से जल्दी जल्दी, फटाफट चुदवा लूँगी।

मैंने अपने “नंगे बदन” पर खुश्बू लगाई और अपने पति का पसंदीदा पारदर्शी गाउन अपने सेक्सी बदन पर पहन लिया।

अचानक, दरवाजे की घंटी बजी।

मैंने “की होल” से देखा तो बाहर मेरे पड़ोसी की खूबसूरत, सेक्सी, 19 साल की सेक्रेटरी छाया को खड़ा पाया।

मैं जानती थी की मेरी पड़ोसन मनप्रीत के अपने पति की सेक्रेटरी छाया के साथ लेज़्बीयन चुदाई के संबंध है।

जैसा की मैंने, अपने पहले के सफर मे लिखा है की मेरी पड़ोसन एक शादीशुदा, लेकिन “चुदाई मे असंतुष्ट औरत” है।

उसका पति, उसको चोद कर उसकी प्यास नहीं बुझा सकता क्यों की चुदाई करते वक़्त उसके लण्ड का पानी बहुत जल्दी निकल जाता है और मनप्रीत प्यासी की प्यासी ही रह जाती है.. इसलिए, वो अपने पति की सेक्रेटरी छाया के साथ, लेज़्बीयन चुदाई करती है।

मैंने दरवाजा खोला और छाया को अंदर आने को कहा।

पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…

बावरा लण्ड 1

मेरी मौसी का घर, हमारे घर से थोड़ी ही दूर था ..

मेरी मौसी के दो बेटे हैं – विजय और अजय ..

विजय की उम्र, मुझसे लगभग 4 साल बड़ी है और अजय मुझसे 2 साल बड़ा है ..

जून के महीने की बात है ..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

मैं अपनी मौसी के घर गया हुआ था, छुट्टियों के दिनों में रहने के लिए ..

मेरी मौसी का घर, एक डबल स्टोरी था ..

ऊपर पहले फ्लोर पर, मेरी मौसी का पूरा परिवार रहता था ..

नीचे ग्राउंड फ्लोर पर, एक आगे वाला कमरा ऐसे ही खाली रहता था और अंदर के कमरे उन्होंने रेंट पर दिए हुए थे, एक परिवार को ..

उनके किरायेदार के परिवार में पति और पत्नी दोनों काम करते थे और उनकी 3 बेटियाँ थीं ..

तीनों की उम्र लगभग 20, 18 और 16 की होगी ..

जो उनकी 20 साल की बेटी थी, रचना और उनकी 18 साल की बेटी थी, अर्चना उन दोनों से काफ़ी दोस्ती थी हमारी ..

पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…

गरीब पति का अमीर दोस्त 1

ये बात उन दिनों की है, जब मेरी शादी हुई थी..

उस वक़्त मेरी उम्र, लगभग 20 और मेरे पति की उम्र 25 थी..

मेरे पति शशांक ने, हमारे हनिमून जाने का प्लान स्थगित कर दिया था क्यों के शादी के खर्चे काफ़ी होने की वजह से संभव नहीं था..

जैसा मैंने बताया, हम मिडिल क्लास परिवार से हैं सो ये सब होता रहता है..

उनके, एक दोस्त हैं – वरुण..

एक दिन, वो घर पर आए..

पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…

Written by

मस्त कामिनी

Leave a Reply