ननद को अपने पति से चुदवाया- 4

(Nanad Ko Apne Pati Se Chudwaya- 4)

This story is part of a series:

सागर के लंड की स्वाद मीना के मन को हिला दिया था अब desi sex kahani के इस भाग में मीना को सागर से पहल करने के लीये मौका देने की सोच उन दोनों को अकेले छोड़ी..

अब तक आपने पढ़ा..

बच्चों को छोड़ कर मैं एक होटल मे आ गई और वहाँ नाश्ता करने लगी, 11 बजे थे सुबह के मैंने मीना को कॉल किया और बोली की मुझे एक घंटा और लगेगा 11:30 को सागर का कॉल आया डियर मै बाथरूम मे से बोल रहा हूँ।

‘हम बेडरूम मे अब सेक्स करने वाले हैं तुम पीछे के दरवाजे को खोल कर चुपके से अन्दर आ जाओ..’ मैंने तुरुंत ऑटो पकडी और घर आ गई सागर को एक मिस कॉल दिया ताकि सागर मीना को बेडरूम से निकलने ना दे फिर दुसरे दरवाजे को खोला..

अब आगे..

और अन्दर आ गई बेडरूम का दरवाजा थोडा खुला था। मैंने देखा सागर तैयार था और पेग भर रहा था 2 ग्लास में, मीना नीले कलर की साड़ी मे थी और स्लीव लेस ब्लाउज जो बहुत लो कट था सागर के पास में बेड पर बैठी थी।

मैंने अलमारी में से कैमरा निकाला और वापस मीना को कॉल किया और मैं धीरे से आवाज़ मे बोली ‘मैं सहेली की मम्मी को देखने हॉस्पिटल मे आई हूँ, मुझे आने मे और 2 घंटे लग जाएँगे तब तक आप शुरू कर दो..।’ और फोन रख दिया और बेडरूम के पास आकर देखने लगी।
सागर बोला किसका फोन था मीना बोली भाभी का उनको और 2 घंटे लगने वाले हैं हमको शुरू करने को कहा सेक्स, सागर ने एक ग्लास मीना को दिया और एक खुद ने लिया और चियर्स किया। अब मैंने भी मेरा कैमरा चालू कर दिया और अन्दर का सब रिकॉर्ड करना शुरू कर दिया।

उन दोनों की बातें शुरू हो गई मीना– भैया रात में बहुत मज़ा आया ना कार्ड के गेम में।
सागर– हाँ दीदी, पल्लवी हमेशा ऐसी मस्ती करती रहती हैं तुमको बुरा तो नही लगा ना दीदी। मीना– नहीं भैया, मैंने बहुत इन्जॉय किया भैया एक बात पूंछु आपसे अगर आप बुरा ना माने तो।

सागर- अरे डरो नही पूछो खुल के कुछ भी। मीना– भैया आपका लंड सच मे बहुत बडा हैं।
सागर– क्यों मेरे जीजा का बडा नहीं हैं क्या। मीना– उनका नाम भी मत लो भैया मर्द कहने के लायक भी नही हैं वो तो।

सागर– क्यों दीदी ऐसा क्यों कह रहे हो मेरे जीजा के बारे में।
मीना– भैया उनका लंड छोटा है सिर्फ 4 इंच और वीर्य 5 मिनट में ही निकल जाता हैं।
सागर– ये तो बुरी बात है फिर तुम सटिसफाइड कैसे होती हो।
मीना– कहाँ होती हूँ भैया ऐसे ही तडपती रहती हूँ, सच में मेरी भाभी इस बारे मे बडी नसीब वाली हैं जिनको आप मिले।

सागर– दीदी बुरा ना मानो तो एक बात कहूँ तुमको। मीना– बोलो ना।
सागर – तुम बाहर कोई बॉयफ्रेंड क्यों नही रखती हो इसमे ग़लत भी कुछ नही हैं आज कल सब चलता हैं यह।

मीना– सच कहूँ तो भैया मेरे पहले से 2 बॉयफ्रेंड हैं एक आपके जीजा का दोस्त हैं और एक हमारे बिल्डिंग का बबन शादीशुदा लडका है। सागर– फिर उनसे तो सटिसफाइड होती हो ना तुम?

मीना– कहाँ भैया वो दोनो भी सेम उनके जैसे हैं छोटा लंड और कम वीर्य। सागर– ये तो और भी बुरी बात है।

Comments

Scroll To Top