चुदाई का सफर: चूत चूत का खेल 6

लेखिका – कशिश अनुवाद तथा संपादन – मस्त कामिनी मैंने महसूस किया की उसको मेरी गाण्ड के छेद मे उंगली घुसने मे ज़्यादा परेशानी नहीं हुई क्यों की मेरी गाण्ड...

8 min read

चुदाई का सफर: चूत चूत का खेल 5

लेखिका – कशिश अनुवाद तथा संपादन – मस्त कामिनी उसने मेरी टाँगों मे अपनी टाँगें फंसा कर, अपनी गाण्ड हिला कर अपनी चूत को मेरी चूत पर दबाया। लगता था...

6 min read

चुदाई का सफर: चूत चूत का खेल 4

लेखिका – कशिश अनुवाद तथा संपादन – मस्त कामिनी मुझे पहल करने की कोई ज़रूरत नहीं पड़ी, उसने खुद ही पहल कर दी थी। मैंने उसको रोकने की कोई कोशिश...

5 min read

चुदाई का सफर: चूत चूत का खेल 3

लेखिका – कशिश अनुवाद तथा संपादन – मस्त कामिनी मैं जानती थी की छाया को ये पता नहीं था की मैं उस का राज़, उसके मनप्रीत के साथ लेज़्बीयन संबंध...

6 min read

चुदाई का सफर: चूत चूत का खेल 2

लेखिका – कशिश अनुवाद तथा संपादन – मस्त कामिनी मुझे सॉफ सॉफ पता चल गया की उसने अपने टॉप के नीचे ब्रा नहीं पहनी है। उसकी चुचियाँ आकार मे छोटी,...

5 min read

चुदाई का सफर: चूत चूत का खेल 1

लेखिका – कशिश अनुवाद तथा संपादन – मस्त कामिनी प्यारे दोस्तो, जैसा की मैंने अपने पिछले सफर मे वादा किया था, मैं आप की कशिश फिर से हाज़िर हूँ अपनी...

6 min read

चुदाई का सफर: मेरी चुदासी चूत 7

लेखिका – कशिश अनुवाद तथा संपादन – मस्त कामिनी मैंने उन को सफ़र की शुभकामनाएँ दी और चाचा अपना सूट केस उठा कर नीचे की तरफ चल दिए। मेरे पापा,...

5 min read

सहेली थी रांड चाटी चूत और गाण्ड 4

लेखिका – बिंदु सम्पादिका – मस्त कामिनी मेरे हाथ उसकी गाण्ड पर कस गये और मैं हाथों से उसकी गाण्ड दबाने लगी। शशि अपनी कमर उचका कर मेरी ज़ुबान पर...

5 min read

सहेली थी रांड चाटी चूत और गाण्ड 3

लेखिका – बिंदु सम्पादिका – मस्त कामिनी उसकी “फूली हुई गुलाबी फांकों वाली चूत” से रस की एक बूँद टपक कर बिस्तर की चादर पर गिर पड़ी। जहाँ पर चादर...

4 min read

सहेली थी रांड चाटी चूत और गाण्ड 2

लेखिका – बिंदु सम्पादिका – मस्त कामिनी मेरी सहेली मुझे “मंतर मुग्ध” कर चुकी थी। उसकी हर बात मेरे अंदर की औरत का एक नया भाग नंगा कर रही थी,...

5 min read