भाभी की जबरदस्त चुदाई होटल में-3

9 min read

भाभी को देख मैंने महसूस किया कि वो पूरी मदहोश थी तो मौके का फायदा उठाकर भाभी को चुदाई के लिए राजी कर Hindi Sex Stories की घटना में उनकी जमकर चुदाई कर डाली..

अब हम खाना खाकर घूमने निकल गए, ठंड का मौसम था और मज़ा भी आ रहा था। अब शाम हो गई और मैंने कहा कि फिल्म चलते है।

भाभी भी यही चाहती थी और हम हेट स्टोरी! देखने गए। 6 से 9 का शो था, फिल्म चल रही थी और फिल्म के अश्लील सीन देखकर तो मेरा लण्ड खड़ा हो जाता था।

मैंने देखा कि भाभी भी थोड़ी उत्तेजित हो जाती थी, लेकिन मैंने अभी भाभी को छुआ भी नहीं क्योंकि मैं आज रात भर भाभी को चोदना चाहता था।

मैंने अपने लण्ड को काबू में रखा, अब हम होटल आ गए और कमरे में ही खाना ऑर्डर कर दिया। मैंने कमरा 3 दिनों के लिए भी रिज़र्व कर लिया।

हमने खाना खाया और सोने की तैयारी करने लगे, अब एक ही रज़ाई के अन्दर हमें सोना था। इस बात को सोचकर तो मैं पूरे जोश से भर गया।

तभी भाभी बाथरूम से हाथ मुँह धोकर बाहर आई और बोली, कि अब रवि तुम भी हाथ मुँह धो लो फिर सोते है। मैंने कहा- ठीक है!

अब जब मैं हाथ मुँह धोकर बाहर आया तो मैंने देखा, कि भाभी ने साड़ी उतार दी थी और सिर्फ़ ब्लाउज और पेटीकोट में थी। क्या बताऊँ दोस्तो?

उनके गोरे बदन पर काला ब्लाउज और काला पेटीकोट ऐसे लग रहा था, जैसे चुदाई की देवी खड़ी हो।

तभी भाभी बोली, कि साड़ी पहन कर सोने में दिक्कत होती है इसलिए उतार दी और मैंने भी हाँ में सिर हिला दिया।

मैंने भी लोवर पहन लिया और भाभी के बगल में सो गया। मैंने महसूस किया कि भाभी का बदन बहुत गरम था और मेरे बदन से छू रहा था।

तभी मैं और भाभी आपस में बात करने लगे तभी कुछ देर बाद, मैंने भाभी से कहा- भाभी आप बहुत सुन्दर हो!

भाभी ने हँस दिया और बोली- आज ऐसा क्यों बोल रहे हो?

मैंने कहा, कि बस ऐसे ही!

तभी मैंने पूछा, कि भाभी आपको फिल्म कैसी लगी?

भाभी ने कहा- ठीक थी! लेकिन सच में ऐसा नहीं हो सकता?

मैंने कहा- क्या?

भाभी ने कहा- यही कि एक औरत बहुत सारे मर्दों के साथ।।?? और फिर चुप हो गई और मुस्कुरा दी।

मैंने कहा- भाभी मैं आपको एक ऐसी चीज़ सुनाऊँगा कि आपको विश्वास हो जाएगा।

उन्होंने तुरन्त पूछा, कि क्या?

मैंने दीदी वाली रिकॉर्डिंग चालू कर दी।

दीदी की आवाज़ सुनते ही भाभी बोली- यह तो आपकी दीदी है!

मैंने कहा- हाँ और वो और उत्सुकता से सुनने लगी।

सेक्स की बातें शुरू हो गई थी और भाभी पूरे मजे में सुन रही थी, तभी मैंने धीरे से अपना एक हाथ भाभी के कमर में डाल दिया और पेट को सहलाने लगा।

हालांकि, भाभी इतनी मग्न थी कि उन्होंने ध्यान नहीं दिया और मैंने देखा, कि वो भी गरम हो रही थी, तभी रिकॉर्डिंग ख़त्म हो गई।

मैंने भाभी को अपनी तरफ खींच लिया और जकड़ लिया। तभी भाभी ने कहा, कि रवि यह तुम क्या कर रहे हो? मैं आपकी भाभी हूँ!

मैंने कहा- भाभी आज मत रोको! आज तो मैं आपको चोद कर ही रहूँगा! और हाँ भाभी किसी को पता भी नहीं चलेगा और आपको भी बहुत मज़ा आएगा।

आपने सुना ना, कि दीदी किस तरह अपने देवर से चुदवाती है और हाँ यह बात भी तो सही है कि जब साली आधी घरवाली हो सकती है, तो भाभी आधी बीवी क्यों नहीं हो सकती?

यह सुनकर भाभी की ना हाँ में बदल गई और बोली, कि बस एक बार ही चुद्वाऊँगी!

चुदासी होकर सेक्स के लिए हुई राजी

मैंने कहा- ठीक है! और अब उन्होंने भी मुझे कसकर जकड़ लिया और हम अब एक दूसरे को
चूमने और चाटने लगे।

मैं उनके संगमरमर जैसे बदन को आज जानवरों की तरह लूटना चाहता था। अब मैंने तुरन्त ही उन्हें अपने बाँहों मे लेकर चूमना शुरू कर दिया और वो भी अब मज़े ले रही थी।

मैंने उसकी चूचियों को सहलाना शुरू कर दिया, थोड़ी देर बाद उसका ब्लाउज भी उतार दिया। उसने नीचे ब्रा नहीं पहनी थी, उसको बेड पर लिटाया और उसके चुचे चूसने लगा।

अब मेरा लण्ड पूरी तरह से तैयार था, अब वो भी गरम हो चुकी थी। मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए, उसने काली पैन्टी पहनी थी वो भी उतार दी।

अपने भी सारे कपड़े उतार दिए, फिर उसे सीधा लिटा दिया। अब मैं उसकी चुचे चूस रहा था और एक हाथ से उसकी मक्खन जैसी चूत को ऊपर से सहला रहा था।

अब उसके मुँह से हल्की सी आवाज़ भी आ रही थी- आआ! आअ! ऊऊ! ऊऔहह बस करो रवि! आआ! ईईई! बस करो ना! अब मैंने और तेज़ी से उसकी चूची को चूसना शुरू कर दिया।

अब उसने अपने एक हाथ से मेरा लण्ड पकड़ लिया और दबाने लगी। मैं उसकी चूची को चूसते हुए नीचे की तरफ आया तो देखा कि उनकी चूत पर हल्की हल्की झांटें थी।

शायद 2-3 दिन पहले चिकनी की होगी, मैं उनकी चूत के चारों तरफ अपनी जीभ फेरने लगा। अब वो और मस्त हो गई।

अब मैंने अपनी ज़ुबान उनकी मक्कन जैसी चूत पर फेरनी शुरू की, क्या बताऊँ दोस्तो मुझे कितना मज़ा आ रहा था! और फिर चूत को चूसना शुरू किया।

वो भी अब ऊपर नीचे होकर पूरा मज़ा लेने लगी और 10 मिनट बाद वो झड़ गयी और उसका सारा पानी मैं पी गया।

अब वो मेरा 8″ लंबा और 3″ मोटा लण्ड हाथ में लेकर कहने लगी- तुम्हारा लण्ड तो बहुत बड़ा और मोटा है!

भाभी के द्वारा लण्ड चुसाई का मजा

उसने मेरे लण्ड को अपने हाथ में दबाते हुए उसको मुँह में लेकर चूसने लगी और पूरा लण्ड अन्दर ले जाती। अपनी भाभी को चोदना, फिर पता चलेगा कि कितना मज़ा आता है।

अब मेरे मुँह से भी आवाज़ निकलनी शुरू हो गई आआ! आआ! आह मेरी जान! ऊऊऊ!ओीई!
आहहा! आआ! आअ! मेरी जान चूसो और तेज।

अब वो और तेज़ी से मेरे लण्ड को चूसती जा रही थी, जैसे लोलीपॉप चूस रही हो! 15 मिनट चूसने के बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गया

वो मेरा सारा माल पी गई और कहने लगी- तुम्हारा तो माल मस्त है! मेरी जान और तुम्हारे मोटे लण्ड से मेरी चूत को आज मज़ा आ जाएगा।

वो भी मेरे बराबर में ही लेट गई, और मेरे लौड़े को हाथ में पाकर खेलने लगी। मेरा लण्ड अब उसको चोदने के लिए दोबारा तैयार हो गया।

मैंने उन्हें अपना लौड़ा चूसने को कहा, तो वो मुँह में लेकर ऊपर नीचे करना शुरू कर दिया। करीब 10 मिनट चूसने के बाद मैंने उन्हें पैर फैलाकर सोने के लिए कहा।

भाभी की मखमली चूत को चोदने का मजा

अब उसकी चूत को अपने थूक से गीला किया और अपना लण्ड उसकी चूत पर ऊपर नीचे करने लगा तो वो कहने लगी- रवि अब डाल भी दो अब, और इंतजार नहीं हो रहा मुझसे!

उसकी तड़प देख मैंने अपने लण्ड को उसकी चूत के छेद पर रखा और एक जोरदार धक्का लगाया। जिससे मेरा पूरा 8″ का लण्ड उनकी चूत में समा गया।

अब वो दर्द से चिल्ला उठी ऊऊऊ! ऊईई! ईई! मर गई मैं तो! आआ! आआ! अहह! और मैंने अपना मुँह उनके मुँह पर दबा दिया, ताकि चीखने की आवाज़ बाहर ना निकले।

मैंने देखा कि वो तड़प रही है, और मेरे लण्ड को बाहर निकालने की कोशिश कर रही है। अब मैंने आधा लण्ड बाहर निकाला और एक झटके से फिर पूरा अन्दर डाल दिया।

मैंने हौले हौले हिलना शुरू कर दिया! अब उन्हें बहुत मज़ा आने लगा और उन्होंने भी अपना गांड उछालना शुरू कर दिया।

जिससे हम दोनों को ही मज़ा आने लगा, अब वो कहने लगी- और ज़ोर से चोदो मेरी जान!
फाड़ दो मेरी चूत को! और तेज तेज चोदो!

मेरी गति अब और बढ़ गई, 5 मिनट बाद वो झड़ गई। उसकी चूत से पानी बहने लगा लकिन मैं अभी झड़ने वाला नहीं था।

मैं अब उनकी चूची भी दबा रहा था और अपने लण्ड को अन्दर बाहर भी कर रहा था। जिससे उसको मज़ा आ रहा था, अब मैंने उसकी चूची को चूसना शूरू कर दिया।

उसकी आवाजें निकलनी लगी- ऊओु! ईई! ईईई! एआ! आआ! इईईए! मेरी जान जरा ज़ोर से चोदो! बहुत मज़ा आ रहा है! मुझे आज पहली बार इतना मज़ा आया है! मुझको और ज़ोर से करो!

मैंने अपनी तेजी और बढ़ा दी और वो फिर झड़ गई, और उसकी चूत ने सारा पानी बाहर निकाल दिया। अब कमरे में चप चप की आवाज़ आ रही थी।

चुदाई करते हुए, मैंने उससे पूछा- मज़ा आया मेरी जान!

उसने कहा- हाँ! इतना मज़ा तो तुम्हारे भैया से कभी नहीं आया मेरे को! क्योंकि वो 10 मिनट से ज़्यादा चोद भी नहीं पाते है मुझे और झड़ जाते हैं।

मैं और ज़ोर से उसे चोदने लगा थोड़ी देर बाद उसने मुझे कहा, कि मैं अब झड़ने वाली हूँ! अब और बर्दाश्त नहीं हो रहा मेरे से।

अब मैंने भी अपनी गति बढ़ा दी और वो ओइ! ईईई! ईईई! ईई! ईईई! आआ! अहह! करते हुए झड़ गई और मैंने उसको कहा, कि मैं भी अब झड़ने वाला हूँ।

मैंने उन्हें घोड़ी बनने के लिए कहा, तो वो घोड़ी बन गई। मैंने अपना लण्ड उसकी चूत में डाला और ज़ोरदार धक्के मारना शुरू कर दिया।

मैं अपने दोनों हाथ उसकी गांड पर फेरने लगा, उसकी गांड का छोटा सा छेद देखकर मेरा दिलउसकी गांड मारने को करने लगा, लेकिन मैं झड़ने वाला था।

मैंने उससे पूछा, कि पानी कहाँ निकालूँ?

उन्होंने मुझसे बोला, कि मेरी चूत में ही निकाल दो!

मैंने अपनी तेजी बढ़ाई और एकदम उसकी चूत में झड़ गया। मेरे माल की गर्मी ने उसको भी स्खलित कर दिया।

हम दोनों ही बेड पर नंगे एक दूसरे से चिपक कर लेट गए। 30 मिनट के बाद, हम उठ कर बाथरूम गए वहाँ मैंने अपने लण्ड को साफ किया।

उसकी चूत को भी साफ किया और वापस आकर बेड पर बैठ गए और बातें करने लगे। रात को 3 बार और मैंने भाभी को चोदा।

अगले 3 दिन, मैंने भाभी को इतना चोदा जितना शायद, भैया भाभी को 3 महीने में भी ना चोद पाते।

अब घर पर जब भी हमें मौका मिलता है, मैं अपनी भाभी को चोदता हूँ।

यह कहानी आपको कैसी लगी? मुझे ज़रूर मेल कीजिएगा, फिर मैं आपको बताऊँगा कि मैंने
अपनी दीदी मधु को किस तरह चोदा।
[email protected]

भाभी से मैंने उनकी चुदाई का प्रस्ताव रखा तो वो रिश्तों की दुहाईयाँ देने लगी, तो मैंने अपनी दीदी की चुदाई वाली रिकार्डेड आवाज़ भाभी को सुनाई।जिससे भाभी पूरी उत्तेजित हो उठी और मुझसे चुदने को राजी हो गई, तब मैंने Hindi Sex Stories की घटना में उनकी चूत की जमकर चुदाई कर उनकी अधूरी प्यास को शांत कर दिया..

Written by

akash

Leave a Reply