और मैं बन गया गांडू

(Meri Sex Stories Hindi : Aur Mai Ban gaya Gaandu)

यह मेरी यहाँ पर पहली स्टोरी है..मैं Meri Sex Stories Hindi में लिख रहा हूँ,

मेरा नाम आदित्य है और मैं एक बॉटम ‘गे’ हूँ.. यानि गांडू हूँ। वैसे मैं यूपी का हूँ.. पर अभी दिल्ली में पढ़ाई कर रहा हूँ और जॉब ढूंढ रहा हूँ। मुझे सिर्फ 40 साल के ऊपर वाले मर्द ही पसंद आते हैं यानि मैं सिर्फ अंकल लोगों के साथ ही सेक्स करता हूँ। मेरी उम्र 24 साल है मेरी बॉडी स्लिम है.. गोरी है और शरीर पर बहुत कम बाल हैं.. सीने और गांड पर तो बाल है ही नहीं।

मैंने करीब आज तक दस अंकल लोग के साथ सेक्स किया है। मेरी गांड और चूचे लड़कियों जैसे हैं.. मतलब मैं एक मर्द को बहुत अच्छे से खुश कर सकता हूँ।

चलो यह सब बाद में कि मैं एक गांडू कैसे बना.. सीधे मेरी स्टोरी पर आते हैं।

यह बात है 2014 के अक्टूबर महीने की है.. दशहरा की छुट्टियां चल रही थीं। मैं कई लोगों से कैम और चैट पर बात कर रहा था.. पर अब मेरा रियल में अपनी गांड मरवाने का मन करने लगा और मैं सोचने लगा कि किसके साथ करूँ। फिर मैंने planetromeo पर अपनी एक आईडी बनाई और फोन में planetromeo,grindr और growlr की ऐप डाउनलोड कर लीं। मैंने फेसबुक पर भी अपनी एक ही आईडी बनाई और इस तरह से मेरी अंकल लोग और टॉप के लोगों से बात होने लगी.. पर मेरी कभी हिम्मत नहीं होती कि किसी के पास चला जाऊँ।

एक दिन मैं अपने दोस्त के यहाँ पार्टी में गया.. मतलब वहाँ सब बीयर दारू वगैरह की पार्टी थी।

हम सभी लोगों ने उस रात पार्टी का मजा लिया और सो गए।

फिर मैं अगली सुबह उठा और मुझे पता नहीं क्या हुआ कि मैं खुद को चुदासा महसूस करने लगा.. अरे वही मतलब.. किसी अंकल से अपनी गांड मरवाने का मन करने लगा। फिर मैंने अपनी सारी ‘गे’ वाली ऐप खोल लीं और फेसबुक पर भी किसी अंकल मतलब ‘टॉप’ अंकल को ढूंढने लगा। ‘टॉप’ तो आप समझते होंगे.. जो टॉप पर आकर गांड मारता है।

तब मेरी grindr पर एक अंकल से बात हुई। वह चुदाई के मामले में हर तरह की चुदाई के खिलाड़ी थे.. पर मुझे एक प्योर ‘टॉप’ चाहिए था। चूंकि इस वक्त मेरी गांड में तो खुजली मची थी तो मैंने सोचा कि इन्हीं से अपनी गांड मरवा लूँ।

अंकल की उम्र 45 साल के आस-पास की होगी। वह ग्रीन पार्क में थे और मैं उस समय मालवीय नगर में था। मैंने सोचा कि अंकल पास में ही हैं.. जल्दी मिल लिया जाए। वैसे भी मुझे दूर जाने में बहुत आलस आता है।

उन्होंने मेरा whatsapp नंबर लिया और हम उस पर चैट करने लगे।

यह करीब सुबह 8:00 बजे की बात होगी। उन्होंने मेरी पिक मांगी मैंने दी और फिर उन्होंने मेरी गांड की पिक मांगी.. तो मैंने वो भी दे दी। मैंने उनसे भी उनकी बॉडी और लंड की पिक मांग ली। वह मुझे अच्छी लगी क्योंकि उनके सीने पर बाल थे.. जो मुझे बहुत पसंद हैं।

फिर मैं अपने दोस्त के रूम से करीब 9:00 बजे निकल गया। उस समय मेरे सारे दोस्त सो रहे थे.. मैंने एक दोस्त को उठाकर उससे बोला- मैं अपने दोस्त से मिलने जा रहा हूँ.. एक-दो घंटे में आता हूँ और मैं वहाँ से निकल गया। मुझे ग्रीन पार्क मेट्रो पहुँचने में बस 20 मिनट करीब लगे।

Comments

Scroll To Top