सोनी पंजाबन कुड़ी 3

(Soni Panjaban Kudi 3)

This story is part of a series:

Meri Sex Story Ke Lekhak Kya Ye Jante Hain Ki Mughal Ke Hindustan Aane Se Pehle Bharat Ke Kai Bhag Me Aurat Sirf Saadi Ke Tarah Ke Kapde Ko Badan Par Lapetti Thi…

लेखक – पिंटू शर्मा

मेरा नाम पिंटू शर्मा है..

पिछली 2 स्टोरी में, कालका की आंटी को ट्रेन में चोदा था..

करीब 6 महीने बाद, 30 दिसंबर को मेरा पेपर था..

दिल्ली से लौटने पर, मैंने आंटी को फोन किया..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

वो बोली – आप 31 को सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे क बीच आ जाओ.. मुझे टाइम है.. रात को हमारे दूसरे घर में रहने की भी जगह है..

मैं 31 को सुबह 10 बजे कालका पहुँच गया.. आंटी को फोन किया तो वो बोली – मैं तुम्हें लेने आई हूँ… तुम गेट क पास आ जाओ..

मैं गेट पर गया तो आंटी तैयार खड़ी थी.. वो मुझे देखते ही खुश हो गई.. उस दिन ठंड बहुत थी.. उसने कोट पहन रखा था..

आंटी – तुम आ गये.. जल्दी घर चलो.. वहीं बात करेंगे.. पिंटू.. घर पर कोई नहीं है.. बच्चे तो बड़े दिन की छुट्टी में ननिहाल गये हैं.. अंकल दुकान गये हैं.. मेरी ननद बलविंदर घर पर है.. उसको मैंने तुम्हारे बारे में सब बता दिया.. वो भी एकदम तैयार है.. आज उसका नंबर पहले लगाना है..

पिंटू – चलो टैक्सी पाकड़ो.. हम टैक्सी पकड़ कर घर आ गये..

आंटी ने मुझे एक कमरे में बिताया..

आंटी – मैं चाय लाती हूँ..

वो चली गई.. फिर थोड़ी देर बाद पानी ले कर एक गर्ल आई..

उसने मुझे नमस्ते किया.. एक दम जवान और देखने में मस्त.. दूध तो बहुत बड़े थे.. टी शर्ट में जंप खा रहे थे.. शायद उसने ब्रा नहीं पहनी थी.. वो मुझे देख कर मुस्कुराई..

पिंटू – आपका क्या नाम है .?.

वो – जी बलविंदर..

मैं समझ गया.. ये वही लड़की है, जिसे मुझे चोदना है..

मैं बस मौके की तलाश में था.. वो गिलास रखने क लिए मूडी और फिर झुकी तो उसके पोंद मस्त लगे..

मैंने उसको पीछे से जा कर पकड़ लिया..

बलविंदर – अरे आप क्या कर रहे हैं .?. छोड़ो.. कोई आ जाएगा..

पिंटू – आज कोई नहीं आएगा.. ये मौका बार बार नहीं आता डार्लिंग..

मैंने उसको सीधा कर लीप लॉक कर दिया.. किस करने लगा.. वो अब कुछ भी नहीं कर रही थी.. उसके गाल मस्त थे..

मैंने गाल चूसने शुरू कर दिए तभी आंटी चाय नाश्ता लकर् आ गई..

आंटी – पहले ये नाश्ता कर लो.. ये बाद में कर लेना.. मेरी ननद को आज खूब खुश कर देना पिंटू..

बलविंदर शर्म से लाल हो गई.. उसने सिर नीचे कर लिया..

पिंटू – यार ये तो चलता ही रहेगा.. चलो.. ऊपर देखो..

वो ऊपर देखने लगी.. तभी मैंने आंटी को पीछे से पकड़ कर उसके दूध दबाने लगा.. बलविंदर देखती ही रह गई..

मैंने आंटी का कुर्ता खोल दिया और ब्रा खोल कर दूध चूसने लगा..

आंटी – अरे क्या कर रहे हो .?. गेट खुला है.. पहले तो बलविंदर का नंबर है फिर मेरा.. आ बड़ा मज़ा आ रहा है.. चाय पी लो दूध बाद में पीना.. छोड़ो दूध मेरे.. अया या.. ऊ ऊओ.. ऊऊ.. छोड़ो.. ना.. बूबे..

मैंने दूध छोड़ दिए.. हम नाश्ता करने लगे..

आंटी बाहर चली गई.. मैंने गेट बंद कर दिया..

फिर बलविंदर को पकड़ लिया.. वो काफ़ी खुश थी..

उसके कपड़े उतारे तो वो सेक्स बॉम्ब निकली.. उसके दूध पक्के हुए आम की तरह थे..

गुलाबी निप्पल बहुत मस्त थी.. मैंने पीछे जा कर उसको पकड़ लिया.. वो शर्मा रही थी..

मैंने उसके मस्त चूतड़ मैं लंड रख कर शॉट मारा.. लंड चूतड़ की दरार को चीरता हुआ अंदर चला गया..

अब उसके दूध पकड़ कर दबाने लगा.. दूध बड़े मस्त थे.. एकदम आम की तरह..

उसने गर्दन मोडी तो उसके गाल पर किस स्टार्ट कर दिया..

अब वो मेरी पकड़ में थी.. उसकी गाण्ड में लंड, मेरे हाथ में दोनों दूध और मेरे होंठों में उसके गाल..

वो एकदम मस्त हो गई.. चुपचाप सेक्स का मज़ा लेने लगी..

मैं 10 मिनिट तक ऐसे ही रहा..

अब वो मस्त हो गई.. मैं उसके आगे आ गया.. उसके लिप्स को किस करने लगा..

उसके पतले गुलाबी होंठ मस्त थे.. चूस चूस कर मज़ा आने लगा.. फिर दूध को चूसने लगा..

एक दूध मुँह में ले लिया.. दूसरे को दबाना शुरू कर दिया.. बदल – बदल कर दोनों दूध को चूस रहा था..

अब निप्पल भी मुँह में ले लिए.. मस्त निप्पल थे.. वो एकदम मस्त हो गई.. 18 साल की लड़की की सब चीज़ मस्त होती है..

क्या किस्मत बदली.. 18 की मस्त चूत.. जोरदार तन में सेक्स का मज़ा डबल हो जाता है..

Comments

Scroll To Top