सोनी पंजाबन कुड़ी 9

(Soni Panjaban Kudi 9)

This story is part of a series:

Meri Sex Story Par Pesh Hai Soni Panjaban Kudi Ka 9th Part…

लेखक – पिंटू शर्मा

मैंने उसको बाहर निकाल कर थूक डाल कर फिर शॉट मारने लगा.. आंटी ने मना किया पर 7 – 8 शॉट बाद वो कुछ नहीं बोली..

उसके चूतड़ मस्त थे.. हमारा खेल चल ही रहा था की बलविंदर आ गई.. वो हम दोनों को देख कर चौंक गई..

बलविंदर – अरे.. क्या कर रहे हो.. किचन में.. भी.. ये.. कोई आ गया तो .?.

आंटी – तुम मेन गेट का लॉक लगा आओ.. जल्दी करो..

वो फटाफट गेट को लॉक कर वापस आ गई..

आंटी – मुझे तो पिंटू छोड़ ही नहीं रहा.. तुम खाना बना लो.. बलविंदर..

बलविंदर – मैं खाना भी बना लूँगी.. और.. आपकी चुदाई भी देख लूँगी..

आंटी – मेरी तो पीछे वाली जितनी पिंटू ने मारी है.. उतनी तो आज तक नहीं मरवाई..

मैंने अब आंटी को सीधा कर गाल चूसने लगा.. बलविंदर, बस हम दोनों को ही देख रही थी..

5 मिनिट बाद, बलविंदर बोली..

बलविंदर – यार, तुम कमरे में जाओ.. मैं तुमको देखूँगी तो खाना कौन बनाएगा .?. बेड पर चुदाई कर लो.. मज़ा आएगा..

आंटी ने कपड़े उठाए और बाहर चली गई.. मैंने जाते – जाते बलविंदर के दूध दबाए और किस किया..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

बलविंदर – मेरी तो रात में लेना.. अब जाओ.. भाभी जी की मारो.. भाभी तो मस्त माल है.. घोड़ी बना के चोदना..

पिंटू – तुमको भी घोड़ी बना के पीछे से चोदुंगा.. डार्लिंग..

बलविंदर – जाओ.. यार .. ऊपर चढ़ जाओ..

मैं पास वाले कमरे में चला गया.. आंटी खड़ी थी.. मैंने उनको पकड़ा और बेड के कोने पर घोड़ी बना दी..

फिर पीछे खड़े हो कर लंड चूत में डाला.. पर लंड अंदर नहीं गया.. आंटी खड़ी हो गई और बेड पर लेट गई..

आंटी – चूत खुली नहीं है.. थोड़ी देर आगे से मारो.. फिर घोड़ी बना लेना..

मैंने लंड को चूत में नहीं डाल कर दोनों मोटे बूब्स के बीच में रख दिया.. आंटी ने अपने हाथो से दूध को पकड़ कर पास पास कर दिया..

लंड को अब मज़ा आने लगा.. दूध की मुलायम चमड़ी में लंड मस्त हो गया..

10 मिनिट तक ऐसे ही चलता रहा..

आंटी – लंड से दूध चुदाने में मज़ा आता है..

मैंने लंड को दूध से हटा कर उसके मुँह में डाल दिया.. वो लंड को पकड़ कर चूसने लगी.. मुझे मज़ा आने लगा.. फिर मैंने 2 मिनिट बाद लंड निकाल लिया..

आंटी – और चूसा लो..

पिंटू – यार मैं झड़ जाऊंगा.. तुम्हारी चूत कौन मरेगा फिर .?.

आंटी – ये बात है क्या.. लो .. चूत मार लो.. जल्दी मारो.. कहीं कोई.. आ गया तो.. बिना चुदे ही रह जाउंगी.. आग लगी है चूत में.. मार लो.. चूत.. पिंटू..

मैंने लंड चूत पर रख कर शॉट मारा.. लंड चिकनी चूत में चला गया..

मैं अब उस पर लेट गया.. उसके दूध मेरे सीने से लगे हुए थे..

उसने दोनों टाँगों को बिल्कुल पास कर लिया.. मेरा लंड उसकी चूत में था..

पैर पास करने से उसकी चूत वाली जगह एक गहरी खाई सी बन गई..

मेरा अंडकोष मस्त हो गया.. लंड के पास वाला सारा एरिया मस्त हो गया..

काफ़ी देर तक चुदाई चलती रही.. बीच बीच में मैं रुक जाता..

आंटी – यार, अब तो घोड़ी बना के चूत चोदो.. बड़ा मज़ा आएगा.. लंड सारा अंदर डाल देना..

पिंटू – चलो, मेरी रानी घोड़ा अपना लोड् ले के तैयार है..

वो जल्दी सी घोड़ी बन गई.. मैंने लंड को चूत पर रखा और शॉट मारा.. चूत चिकनी हो गई थी.. लंड अंदर चला गया..

कुछ देर शॉट मार कर, मैं उसके ऊपर चढ़ गया.. मेरा सारा शरीर उसके ऊपर था..

उसकी नंगी पीठ पर, मैं लेट गया.. मैं उसकी गर्दन और कंधे चाटने लगा.. लंड अभी भी उसकी चूत में था..

आंटी – तुम तो सच में घोड़े बन गये.. घोड़ी पर घोड़ा ऐसे ही चढ़ जाता है.. बेचारी घोड़ी तो चूत में लंड डलवा कर नीचे ही दब जाती है.. मज़ा आ रहा है.. मेरे घोड़े ऊपर ही रहना.. घोड़ी की चूत से लौड़ा बाहर मत निकलना.. अपने हाथ से मेरे लटकते दूध पकड़ के दबाओ.. यार पीछे से चूत मरवाने में बहुत मज़ा आता है.. पीछे वाले सारे भाग में मज़े से सुन्न सी हो जाती है..

मैंने उसके दूध पकड़ कर दबा दिए.. थोड़ी देर दबाता रहा.. बीच में लंड बाहर निकल कर शॉट मार कर फिर ऊपर चढ़ जाता..

आंटी – यार, घोड़ी बन कर चुदाने में मज़ा बहुत है.. घोड़ी भी घोड़े का डलवा कर ऐसे ही मज़े लेती है.. तुम्हारे अंकल तो आज तक मुझे ऐसे कभी भी नहीं चोदा.. यार ब्लू फ़िल्मो में लड़की ऐसे ही चूत चुदवाती है.. मैं सोचती थी की ये भी कोई तरीका है चुदाई का .?. .?. पहले बलविंदर सेक्स की बात इतनी खुल कर नहीं करती थी.. जब मैंने मेरी ट्रेन वाली स्टोरी सुनाई तो फिर धीरे – धीरे बातें करने लगी.. उसके फ़ोन में बहुत सारी फ़िल्मे हैं.. ऊऊ य यय्या आर र र.. मज़ा आ रहा है.. शॉट मरो.. ..

पिंटू – तुम यार अपने नीचे रज़ाई लगा लो.. मैं ऊपर चढ़ुगा तो दर्द नहीं होगा..

Comments

Scroll To Top