दोस्त की बहन चुदाई– 1

7 min read

दोस्त की एक बहन की शादी हो और दूसरी से मामला फिट हो जाने वाली hindi sex stories आप दोस्तों को बहुत हिट लगती होगी तो कुछ वैसी जबरदस्त मेरी मामला भी फिट हुई..

मेरा नाम अर्जुन है मेरी उम्र 23 है। यह मेरी पहली कहानी है अगर कोई ग़लती हो जाए तो माफ़ करना। यह कहानी करीब 3 साल पुरानी है, राज़ मेरा बहुत अच्छा दोस्त है।

मेरे दोस्त की दो बहन है तो उसकी बड़ी बहन की शादी थी हम ( मैं और मेरा दोस्त) शादी की तैयारी मे लगे हुए थे, एक दिन उसकी छोटी बहन (कंचन उम्र 24 साल ) को शादी के कपड़ों के लिए बाज़ार जाना था।

उस दिन मैं राज़ के घर पर ही था तो कंचन मेरे पास आई और बोली की..
कंचन- अर्जुन यार मुझे शादी के कपड़े के लिए जाना है तो तुम चलो।
मैं चलने के लिए तैयार हो गया जेसे ही मैंने गाड़ी निकाली तो उसके साथ उसकी फ्रेंड पिंकी भी आ गयी, हम तीनों बाज़ार चले गये उन्हे काफ़ी टाइम लग गया, मैं अकेला उनका इंतज़ार कर रहा था।

करीब 1 घंटा बाद वो दोनो आ गई लेकिन कुछ नही था उनके हाथ में।
मैं- क्या हुआ कपड़े कहाँ हैं तो, पिंकी- भाई यहाँ कुछ अच्छा नही है कहीं और चलते हैं।
मैं- कंचन तुम्हारे पासे पैसे कितने हैं? कंचन- है पापा का ATM Card है।

मैं उन्हें पास ही मे एक मॉल मे ले गया वहां उन्होंने कपड़े लिए ओर हम घर की तरफ चल दिए, तभी पिंकी के भाई का फोन आया और वो उसे घर आने के लिए बोल रहा था। तो पिंकी ने कंचन से बोला

पिंकी :- कल मेरा पेपर है तो मुझे जाना होगा। वो वहीँ से चली गयी। अब मैं और कंचन घर की और रवाना हो गये तभी कंचन बोली
कंचन:- अर्जुन यार तुम तो बताओ की कपड़े कैसे हैं। मैं- घर जाकर बता दूँगा आंटी भी देख कर बता देगी।

कंचन- अगर अच्छे नहीं हुए तो अभी बदल देंगे। पिंकी को तो अच्छे लगे हैं तुम भी देख लो।
मैंने गाड़ी साइड मे लगा कर उसके कपड़े देखने लगा।
वो काफ़ी छोटे कपड़े थे शहर मे तो ये सब चलता है लेकिन गाँव मे नही तो मैने उससे बोला..
मैं- यार गाँव मे ये अच्छा नही लगेगा लेकिन तुम इन कपड़ो मे बहुत सुंदर लगोगी।
कंचन- वो तो ठीक है अब बहन की शादी तो एक बार ही होगी कहने दो जो कहेगा।

मैं- ठीक है, तुम्हारी मर्ज़ी। तभी उसके कपड़ों में मुझे उसकी ब्रा पेंटी नज़र आई मैं उन्हें देखता रहा ब्रा का साइज़ काफ़ी बड़ा था उसके चूचे काफ़ी बड़े थे, उसका साइज़ 34-28-30 था।

उसकी पेंटी पर कुछ लगा था शायद उसकी चूत का पानी था। उसे पहले पह्न कर देखी होगी मैं पेंटी पर लगे पानी को हाथ से महसूस कर रहा था। की तभी उसने मुझे ये करते देख लिया।

कचन- ये क्या कर रहा है? मैं- कु.. कुछ नहीं।
कंचन- मैंने सब देख लिया है तू क्या कर रहा था तुझे शर्म नही आती।
मैं- ग़लती हो गयी। कंचन- चल अब घर।

हम घर पहुँच गये मैं अपने घर आया और पैंटी के बारे मे सोच कर मुट्ठी मारने लगा अब मुझे ये लगने लगा की कैसे किसी की चूत चोदूं।

दो दिन बाद मैं दोस्त के घर गया लेकिन वहाँ रवि (मेरा दोस्त) नही था तो मैं आंटी के पास चला गया और कम मे मदद करने लगा आंटी काम से घर से बाहर चली गई और मैं सब के साथ काम करा रहा था, तभी मैने कंचन से माफी मांगने उसके कमरे मे चला गया, लेकिन वहाँ कोई नही था।

मैंने कमरे से बाहर जाने लगा तभी मैने देखा क़ी कंप्यूटर से कुछ आवाज़ आ रही है, मैने कंप्यूटर स्क्रीन ऑन की तो देखा की उसमे एडल्ट साईट खुली है, मैने कमरे का दरवाज़ा बंद किया ओर देखने लगा मेरा मन मुट्ठी मारने का किया मैने कंचन की पेंटी ढूंढी ओर उसे लंड पर लपेट कर आँखें बंद करके मुट्ठी मरने लगा।

मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया तो मैने आँखें खोली तो देखा की कंचन मेरे सामने सिर्फ़ तौलिए में थी और मुझे गुस्से से देख रही थी।
कंचन- ये क्या कर रहा था ? मेरे कपड़े क्यों खराब कर रहा था? मैं कुछ कहने की हालत मे नही था मैं चुप रहा

कंचन- मैं अभी शोर मचाती हूँ ओर सब को बताती हूँ की तू मेरे कमरे मे आकर दरवाजा बाद करके क्या कर रहा था।
मैं- नहीं प्लीज़ मत बुलाओ मैं दोबारा नही करूँगा रवि बुरा मान जाएगा हमारी दोस्ती खत्म हो जाएगी, प्लीज़ मत बुलाओ तुम जो कहोगी मैं करूँगा।

काफ़ी देर तक मैं उसे मनाता रहा और वो मान गई।

कंचन- पहले तो तू मेरी पैंटी साफ कर। मैं- ठीक है
मैं उसकी पैंटी साफ करके उसके गंदे कपड़ों के साथ मिला दी। मैं उसके कमरे से जाने लगा।

कंचन- अभी कहाँ जाता है अभी तो और भी काम करने हैं। मैं- क्या करना है बताओ।
कंचन- तुझे शेविंग करनी आती है। मैं- मैंने ‘हाँ’ मे सर हिलाया (क्योंकि मैंने काफ़ी बार अपने लंड के बाल साफ किए थे)

कंचन ने मुझे शेविंग का सामान दिया और तौलिया हटा कर बेड पर लेट गयी।

कंचन- अब देख क्या रहा है चल लगा कर साफ कर। मैंने कंचन की चूत के सामने आ कर उसकी चूत के बाल साफ करने लगा, उसकी चूत के इतने पास आकर उसकी चूत से एक अलग ही खुशबू आ रही थी, मेरा लंड खड़ा हो गया मन कर रहा था अभी चोद डालूँ।

थोड़ी देर में उसकी चूत साफ हो गई। शायद उसका भी मूंड बन गया था क्योंकि बीच बीच मे वो सेक्सी सी आहें भर रही थी।

कंचन- शेविंग तो अच्छी करता है। मैं चुप रहा और जाने की कोशिश करने लगा।
कंचन- अभी कहाँ जाता है चल अब मेरी चूत को चाट जब तक ये पानी ना छोड़ दे।

मैने मना करा क्योंकि मैने कभी ये सब नही किया लेकिन उसने मुझे धमकी दी तो मैं चाटने लग गया मुझे बिल्कुल भी अच्छा नही लग रहा था बीच में मेरा मन उल्टी का किया लेकिन वो मेरे ऊपर आकर मेरे मुँह पर चूत रख कर बोली चाट साले।

मैं चाट्ता रहा कुछ देर बाद मुझे भी अच्छा लगने लगा उसकी चूत का नमकीन पानी मुझे अच्छा लगने लगा, कुछ ही देर बाद उसकी चूत का पानी निकल गया ओर वो थक कर मेरे ही ऊपर लेटने लगी जैसे ही वो मेरे लंड पर आई तो उससे मेरा लंड टच हुआ ओर वो पलट कर देखने लगी अब वो मेरे साइड मे थी।

कंचन- तुझे भी मज़ा आया। मैं- हाँ।
कंचन- फिर अब क्या करेगा। मैं- कुछ नही बाद मे सोचूंगा क्या करना है इसका।
कंचन- चल मैं कुछ करती हूँ, उसने मेरा लंड पैंट से बाहर निकाला और उससे सहलाती हुई बोली

कंचन- क्या खिलाता है इसे जो इतना मोटा और लम्बा बना रखा है। मैं- कुछ नहीं बस जो मैं ख़ाता हूँ वही ये ख़ाता है।
कंचन- इसकी भूख कुछ और होती है। मैं- कुछ और मतलब ( मैं अनजान बन गया)

कंचन- कितनों को चोदा है। मैं- किसी को नहीं बस मुट्ठी मारता हूँ।
कंचन- तूने अभी तक किसी के साथ नही किया। अब कंचन मेरे लंड को जोर जोर से हिलाने लगी।

मैं- नहीं अभी तक तो नही। ‘आह आह आहा आह आह आह आह आह’ मेरा निकलने वाला है।
कंचन- तू इसे बेकार मत कर मेरे मुँह में डाल। मैने लंड कंचन के मुँह मे डाला और वो मेरा लंड पीने लगी मेरे लंड का सारा पानी वो पी गई।

कंचन- मज़ा आ गया तेरे पानी का मज़ा ही कुछ और है चल अब जा वरना कोई आ जाएगा और जब मैं बुलाऊं तो तुझे आना होगा।
मैं- ठीक है कल मिलता तो मेरा बहुत मन कर रहा है कल मिलते हैं। कंचन- मन तो मेरा भी कर रहा है ठीक है कल मिलते हैं।

मैने कंचन को किस करके घर चला गया।

अगली कहानी मे पढ़िए केसे मैने कंचन और पिंकी के साथ सेक्स किया…………….

दोस्तों मैं शादी के कामों में व्यस्त था और दोस्त की दूसरी छोटी बहन मेरे साथ मार्केटिंग के लिए जहाँ से मेरी नियत उस पर खराब होने लगी और मामला चुसाई तक पहुँच गई अब इससे आगे का हाल इस hindi sex stories के अगले भाग में लाऊंगा.. कैसा मज़ा आया मेरी मामला फिट होने के कहानी अपने कमेंट्स भेजें..

Written by

akash

Leave a Reply