पायल की चूत हुई कायल 6

5 min read

Hindi Sex Stories Par Pesh Hai Paayal Ki Chut Hui Kaayal Ka 6th Part…

लेखिका – पायल मिश्रा

उनका लंड, उनकी थूक की परत में चमक रहा था.

मैंने फिर से उनका थूक से सना लंड मुंह में लिया और उससे और ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी.

गुरु जी भी मेरे बालों को पकड़ कर अपना लंड मेरे मुंह में मारने लगे, फिर से..

ले ले रंडी… ले मेरा लंड… आ आह ह स स्स्स्स्स स्स आ आ अह ह ह आह ह अह ह…

तोप तोप तोप तोप तोप तोप तोप तोप…

खूब चूसा के बाद, गुरु जी ने मुझे पकड़ा और फिर अपने लंड का टोपा मेरे होंठों पर टीका कर मुस्कुराते हुए कहा – ले मेरा मुठ, कुतिया…

और बस कुछ ही पलों में, उन्होंने अपनी पहली धार मेरे मुंह में छोड़ दी.

उनका गाड़ा रस, मेरे मुंह में उफन पड़ा..

उू उ उम्म्म्म स स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् सस्स प्रआ आ आ आ आ आ आ आ आ आअ…

गुरु जी का गर्म गर्म मुठ मेरे मुंह में था.

मैंने उससे अपने मुंह में ही रख कर उन्हें दिखाते हुए, मुठ को अपनी जीभ से मुंह में चारों तरफ घुमाया और फिर में उसे पी गई..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

मुठ निकलने के बाद, मुझे लगा गुरु जी और मर्दों की तरह ठंडे पढ़ जाएँगे, कुछ देर के लिए लेकिन उन्होंने मुझे बिस्तर पर फिर से लिटा दिया और मेरा पेटिकोट उतार दिया, पूरी तरह..

अब, मैं सिर्फ़ पैंटी में थी उनके सामने.. गुरु जी ने नीचे झुक-कर, मेरी चिकनी सपाट जांघों को चूमना शुरू किया.

उनकी इस हरकत से, मैं फिर से सिहर उठी और उनके बालों में उंगलियाँ घुमाने लगी.

फिर उन्होंने, मेरी जांघों को और फैला दिया और वो अपनी जीभ के सिरे से मेरी जांघों को चाटने लगे.

उनकी लार से मेरी दोनों जांघें गीली होने लगी और में उनके बालों को कसकर खींचते हुए सिसकियाँ लेने लगी – सस्स्स्स्स् स्स्स स्स ऑश गुरुजिइइई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई म्म्म्म म म म म म म म म म ओह आ आ र र र्र र गज्ग घ ह… ऐसे चाटगे तो मेरी चूत फिर से पानी छोड़ देगी, मेरे रजा आा अ… – मैं मदमस्त होकर बड़बड़ाने लगी..

फिर उन्होंने, मेरी कमर को दोनों हाथों में दबोचा और अपने होंठों से मेरी चूत पर चुम्मों की बारिश करने लगे.

उनके होंठों का स्पर्श महसूस करते ही मुझे सातवें आसमान पर होने का अनुभव हुआ.

अब मैंने उनके बालों को पकड़ा और उन्हें सिर को नीचे दबाने लगी, मेरी चूत पर. मैंने अपने पैर उनकी गर्दन पर क्रॉस किए और उन्हें अपने पैरों में जकड़ लिया.

आह ह गुरुजिइइई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई चाट लो, मेरी चूत को… चाट लो मेरे मालिकक्कक क स स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स्स स्स… अब से मैं आपकी रखेल हूँ… आपके साथ बिस्तर गर्म करने के लिए, कुछ भी करूँगी म्म्म्म म और मैं खुद ही मस्ती में बड़बड़ाते हुए, अपनी कमर उठा कर उनकी चटाई का आनंद लेने लगी..

गुरु जी ने अपना मुंह खोला और मेरे चूत को मुंह में दबोच लिया.

उनके होंठों को मेरी चूत के इर्द-गिर्द महसूस करते ही, मेरा जिस्म जैसे एकदम टाइट हो गया और मैंने अपनी कमर उठा ली मस्ती में..

ओह गुरुजिइइई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ऐसा आनंद देंगे तो दुनिया की हर औरत आपके साथ सोने को तैयार होगी एम्म्म स स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स स्स और चूसो मेरी चूत… आज तक विनय ने भी इतनी दफ़ा मेरी चूत से पानी नहीं निकाला है… मुझे तो पता ही नहीं था की मेरी चूत इतना पानी छोड़ सकती है स स्स्स्स्स् स्स्स स्स… खा जाइए, मेरी चूत… मसल दीजिए, मेरी चूत को…

गुरु जी ने बिना कुछ कहे अपने होंठों को बंद करते हुए, मेरी चूत को भींचना शुरू किया.

उनकी इस हरकत से मेरी चूत फिर से झड़ने लगी और में बस सिसकियाँ भरने लगी – ऑश, मेरी चूत.. ओह मां जी ये कैसा आनंद दिला दिया है, आपने…

अब से मैं रोज़ आपके आश्रम में आकर आपका बिस्तर गर्म करूँगी मेरे राजा. मेरी चूत चाटिये महाराज… चाटिये मेरी चूत को…

मैं उन्हें देखते हुए, कहने लगी.

गुरु जी ने भी हामी भरते हुए अपनी जीभ को मेरी चूत पर स्लाइड करना शुरू किया.

उनकी जीभ के वार से मानो, मैं पागल हो गई और मैंने अपने पैर ज़ोर से कस दिए उनकी गर्दन पर.

गुरु जी ने अपनी लार छोड़ी मेरी चूत पर और लार को चूत पर फैलाते रहे.

फिर गुरु जी ने मेरी चूत को अपने दांतों से काटना शुरू किया और इससे में एकदम बेबस होकर बिस्तर में जल बिन मछली की तरह मचलने लगी.

फिर उन्होंने मेरी चूत के द्वार खोले और अपनी जीभ को चूत में डाल कर मेरी चूत को चाटने लगे.

उनकी जीभ जब मेरी चूत के दाने पर रगड़ खाने लगी तो में बेकाबू हो गई और मैंने अपने पैरों से गुरु जी के पीठ को दबाया और मेरी उंगलियों से उन्हें बाल नोचे.

मैं पहली बार इतनी ज़ोर ज़ोर से सिसकारियाँ ले रही थी.

ऐसा आनंद पहले कभी नहीं मिला था.

ओह गुरुजिइइई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई ई खा जाओ मेरी चूत को स स्स्स्स्स् स्स स्स… हरम ज़ाड़े …. साले मा दर चोद… गुरु जी… उम्म्म आह ह उउई इ इ म्म्म्मा आ आ आ आअ में मर रर्र्र्र र र गाइिई ई ई ई ई ई… तेरी छिनाल हूँ आज से, मेरे लौडू राजा.

फिर गुरु जी ने अपने लंड मेरे हाथ में थमाया. उनका लंड अब नर्म पढ़ चुका था लेकिन उनकी भूख शांत नहीं हुई थी और मेरी भी भूख मिटी नहीं थी.

कहानी जारी रहेगी…

Hindi Sex Stories – Paayal Ki Chut Hui Kaayal 6

Written by

मस्त कामिनी

Leave a Reply