मम्मी पापा के चुदाई का मजा

6 min read

आपको Indian Sex Stories पसंद हैं, तो आज पेश है आपके लिए मेरे मम्मी पापा के चुदाई की कहानी, जिसमें मैं अपने मम्मी पापा की पूरी चुदाई अपनी आँखों से देखता था

हेलो दोस्तो,

मैं महफूज फिर से हाज़िर हूँ एक नई कहानी के साथ! यह कहानी मेरे एक दोस्त विहान की आपबीती है, जिसमें उसने अपनी मम्मी पापा के सेक्स की जिक्र किया है!

आइए! कहानी की ओर चलते हैं, मेरे दोस्त की कहानी उसी के जुबानी!

मेरा नाम विहान है और मैं 25 साल का हूँ। मैं मेरी सेक्स स्टोरी की कहानियाँ बहुत पसंद करता हूँ और आज मैं भी आपको मेरे मम्मी पापा के सेकस की कहानी बताने जा रहा हूँ!

यह कहानी नहीं! बल्कि मेरी आँखों देखी सच्ची घटना है! अक्टूबर का महिना था! ठण्ड बड़ी जोरों की लग रही थी!

हमारे घर मे चार लोग है। मै ,मेरी बहन और मेरे मम्मी पापा! हमारे घर में 4 कमरे हैं! वो भी बड़ा बड़ा!

मम्मी पापा को चुदाई करते देखा

एक कमरे में हम दोनों भाई-बहन सोते थे और मम्मी-पापा दुसरे कमरे में सोते थे!

एक रात जब मैं वाशरूम के लिए उठा, और टॉयलेट मम्मी-पापा के कमरे की ओर है! मैं जैसे ही मम्मी-पापा के कमरे से गुजरा तो कुछ आहट मेरे कानों में सुनाई दी!

मैं जब कमरे के खिड़की से झाँका तो दंग रह गया! मम्मी घुटनों के बल बैठी थी और पापा अपने 8” लौड़े को बड़ी बेरहमी से मम्मी की चूत में घुसा रहे थे!

मम्मी उत्तेजना में आवाजें निकाल रही थी- आओ! उयी! इस! इयाह! घुसाओ! और घुसाओ! विहान के पापा!! यह देख मेरा लण्ड खड़ा हो गया!

मैं भाग कर बाथरूम में गया और अपने लण्ड को पकड़ कर हिला कर मुठ मारने लगा और मम्मी की चुदाई की कल्पना करने लगा!

उस दिन मुझे यह सब देख बहुत अच्छा लगा और यह मेरा हर दिन का काम हो गया था!

जब मैं और मेरी बहन अपने कमरे में चले जाते तो हम दोनो के सो जाने के बाद मम्मी पापा की चुदाई का सिलसिला शुरू हो जाती है।

हम दोनों को सोये हुए समझ कर, दोनों अपने कमरे में जाते और अपना काम शुरू कर देते।

मम्मी की चुदाई की कामुकता

रोज की तरह मैं उठकर मम्मी पापा के कमरे के खिड़की से देखा- मम्मी! पापा के पास गई और पापा के पैरों के बीच हल्के से अपना हाथ फेरने लगी!

मम्मी अपनी नाइटी के ऊपर के चूचियों के पास वाले बटन खोलकर पापा के पास जाकर बैठ गई, और सेक्सी आवाज में बोली- आज मेरी गांड मारना!

मै यह सब खिड़की से देख रहा था। पापा ने मम्मी के होंठों पर किस करने लगे, दोनों एक दूसरे को तकरीबन आधे घन्टे तक किस करते रहे!

किस के साथ पापा मम्मी के चूचियों को मसल रहते! मम्मी हल्की सिसकारियाँ ले रही थी।फिर, मम्मी खड़ी हुई और पापा के पैरों के पास जा कर बैठ गई।

पापा भी सीधे लेट गए। मम्मी ने पापा की लुंगी उठाई। लुंगी उठाते ही मोटा लम्बा लौडा दिखा। मम्मी ने लण्ड को अपने हाथों से पकड़ा और धीरे धीरे सहलाने लगी!

थोडी देर तक ऐसे ही सहलाने के बाद उन्होंने अपनी नाईटी भी उतार दी। नाईटी उतारने के बाद फिर उन्होंने ने लौड़ा मुँह मे लेकर चूसने लगी। मैं यह सब साफ साफ देख रहा था!

मम्मी की चूची चुदाई और चूत चुसाई देखा

पापा मम्मी की ब्रा मे हाथ डालकर मम्मी के मम्मे को दबाकर उन्हे कामोत्तेजित कर रहे थे। मम्मी तो मस्ती मे लौडा चूस रही थी। पापा मम्मी से बोले- मैं पानी छोडने वाला हूँ!

मम्मी तुरन्त मुँह खोल कर लौड़ा हिला रही थी। अचानक! पापा ने मम्मी पर वीर्य की धार मारी! मम्मी भूखी बनकर सब पी गई।

मम्मी ने उठकर अपना मुँह पोंछकर पापा के पास पूरी नंगी लेट कर पोर्न मूवी देख रही थी। पापा उठे और उठकर मम्मी के मम्मे चूसने लगे!

मम्मी आह! आह! करके सिसकारियाँ लेने लगी और पापा तो मम्मी के मम्मे दबाते ओर चुसते। पापा ने फिर अपना लौड़ा से मम्मी के मम्मों की चूदाई की।

उन्होंने मम्मे के बीच लौड़ा रखकर आगे पीछे किया, मम्मी तो बेहाल हो गई! फिर, पापा मम्मी के चूत के पास आए और चूत की पंखुड़ियों को अलग किया!

उन्होंने मम्मी की शेव की हुई चूत पर अपनी जीभ रखकर आगे पीछे करने लगे। मम्मी तो जोरों से सिकारियाँ लेने लगी।

मम्मी की चूत चुदाई देखने का मजा

पूरा कमरा आह! आह! की आवाज से गूँज उठा! मेरा लौड़ा ये बर्दाश्त नही कर पा रहा था। और वो गर्म वीर्य की पिचकारी छोड़कर झड़ गया और लगातार पानी निकालता गया।

मैने भी मुठ मारना शूरू किया। पापा ने अपनी रफ्तार बढ़ा दी। मम्मी भी गर्म और मस्त हो गई। गर्म होने के कारण मम्मी भी झड़ गई।

चूत का सारा पानी पीकर पापा कन्डोम को उठा कर लाए। मम्मी ने अपने मुँह से पापा को कन्डोम पहनाया। मम्मी पापा के लण्ड को मुँह मे लेकर फिर से खड़ा कर दिया।

पापा ने अपना 8” का लौड़ा मम्मी की चूत के मुँह को खोलकर सहलाने लगे। पापा ने मम्मी के पैर फैला दिए और चूत पर लौड़ा रखा और लौड़ा अंदर बाहर करने लगे।

मम्मी भी धीरे से सिकारियाँ लेने लगी। मम्मी पापा से बोली- जरा जोर से चोदो।

पापा ने मम्मी की चूत रस पिया

पापा ने अपनी रफ्तार बढ़ा दी। मम्मी जोरों से सिसकारियाँ लेने लगी। पूरा माहौल आह! उयी! इसस! ऊहूह! उहह! की आवाज से पूरा कमरा चुदाई की मधुर आवाज़ से भर गया।

मैं दूसरी बार झड़ चुका था! पापा भी शायद झड़ चुके थे। पापा भी मम्मी की तरह आह! उह्ह! उफ्फ्फ! करने लगे। थोडी देर पापा नीचे सीधे लेट गए और लंड को सहलाने लगे।

मम्मी लौड़े पर बैठ कर अपनी चूदाई करवा रही थी। सारा माहौल अब पच! क! पाचक! पचक! की आवाज़ से बदल गया। मम्मी अब झड़ गई।

पापा ने झट से उठकर मम्मी की टाँगों को फैलाया और चूत पर मुँह रखकर मम्मी के सारे रस को पी गए!

पापा ने मम्मी की चूत को चाट चाट कर साफ कर दिया और दोनों बाथरूम गए और अपने को साफ किया।

दोस्तो, यह सब देख देख तो मस्त हो गया हूँ और शायद मेरी यह सच्ची घटना आपको भी पसंद आए!
आप मुझे अपने विचार मेरे इस ईमेल आई डी पर भेज सकते हैं
[email protected]

Indian Sex Stories के इस कहानी में मैं एक बार जब पेशाब करने उठा और बाथरूम की ओर गया तब मम्मी की मस्ती भरी आहें सुनी तो, खिड़की से मम्मी पापा की पूरी चुदाई देखने का मौका मिला और रोज देखने लगा।।

Written by

guruji

Leave a Reply