लम्बी सैर से चुदाई की दौर तक-2

(Indian Sex Stories Lambee Sair Se Chudai Kee Daur Tak-2)

This story is part of a series:

मेरे जाँघों को सहलाने पर मेरा लण्ड खड़ा हो गया पर उसकी दोस्त ने उसे लेकर वहाँ से चली गई। हालांकि बाद में मैंने Indian Sex Stories के घटना में उसको जमकर चोदा

अब तक आपने पढ़ा..
मुझे भी कुछ पल अकेले बिताने का मन है आपके साथ।

इतना सुनकर वो हँस दी और मेरी बाजू पर एक चुम्बन लेकर बोली कि कितनी भी देर में खाना खाने जाना हो तो अपने अपने कैम्प्स में है।

मैने बोला है, यही तो सही है कि सोना तो अपने अपने कैम्प्स में ही है, पर अगर तुम्हें एक दो पेग पीने है तो तुम मेरे कैम्प में आ सकती हो और हम लोग थोड़ा समय अकेले बिता सकते है।

अब आगे..

वो एक अजीब सी मुस्कान देते हुए कुछ सोचने लगी और उसने हल्के से मेरी जाँघ पर अपना हाथ फेरा।

सेक्स में चूर मेरा लण्ड खड़ा हो गया

मैं सिहर उठा क्योंकि सोनम का हाथ पूरी तरह मेरी फ्रंची पर ऊपर से होकर गुज़रा था और मेरा मर्दाना लण्ड अपना मुँह उठाने लगा था।

अब केवल हम दोनों लोग अकेले आग के पास बैठे हुए, बस यही इंतजार कर रहे थे कि पहल कौन करे।

सोनम की उंगलियाँ अब मेरे बाजुओं से होकर, मेरे सीने तक चल रही थी। मैं बस उस असीम पल का अनुभव कर रहा था।

समय बीतता जा रहा था, पर हम लोगों को खाना खाने भी जाना था इसलिए मैंने सोनम को बोला कि अगर हम जल्दी से खाना खा कर लें।

उसके बाद हम फिर से अकेले बैठ कर पूरी रत बातें कर सकते हैं और बाकी किसी को कोई शक भी नही होगा।

यह सुनकर सोनम ने बोला, कि यह ठीक रहेगा।

हम लोग कैम्प में पहुँचे और खाना खाने लगे, पर शायद ना मुझे भूख थी और ना ही सोनम को, क्योकि हम दोनों की किसी और चीज़ की भूख सता रही थी।

खाना खाते समय सोनम ने मुझे अपने हाथ से खाना खिलाया, और मेरे हाथ से खुद खाना खाया। थोड़ी देर में हम खाना खा चुके थे।

खाना खाने करने के बाद सोनम की दोस्त मोनिका जो कि फ्रेश होने कैम्प में आई थी। उसने सोनम से पूछा, कि सोना नहीं है या यहीं बैठे रहना है।

सोनम उसे कुछ भी खुल कर बताना नहीं चाह रही थी, और मुझे मोबाइल दिखा कर इशारा किया कि 10 मिनट बाद कॉल या मेसेज करेगी।

सोनम और मोनिका चले गए, मैं अकेला कुछ देर सोनम के फोन का इंतज़ार करता रहा और कर भी क्या सकता था उस माहौल में।

अब मेरा दिमाग़ सोनम के अलावा कहीं और लग नही रहा था। हम सबके कैम्प्स अलग अलग थे। इतनी देर में मोबाइल की घन्टी बजी।

मैंने झट से देखा, पर वो कॉल मेरे दोस्त का था जो मुझसे पूछ रहा था, कि वो सोने जा रहा है क्या? कुछ लेना तो नहीं है बैग से।

मैं मना कर दिया, कि मेरी ज़रूरत की सारी चीज़े पहले ही मैंने अपने टेंट में रख ली है। यह कह कर मैंने फोन कट कर दिया।

30 मिनट बीत जाने के बाद, सोनम का कॉल आया।

मैंने बिना देर किए सोनम का कॉल उठाया तो सोनम ने बोला कि मेरे दोस्त मेरे कैम्प में है और जाने का नाम नही ले रहे है।

मैं फ्रेश होने के बहाने बाहर आकर कॉल कर रही हूँ आपको। आप सो जाओ मैं जैसे ही फ्री होती हूँ आपको मेसेज करती हूँ।

सच मानिए दोस्तो, मेरे दिल पर साँप लौट गए थे यह सुनकर। मैं सोनम के फोन का ऐसे इंतज़ार कर रहा था जैसे मानो सालों का प्यासा एक घूँट पानी माँग रहा हो।

अगले 30 मिनट्स तक, सोनम को कोई मेसेज या कॉल नही आया, पर मैं देख पा रहा था कि सोनम के कैम्प में कुछ हलचल हो रही है और उसके सारे दोस्त अभी वहीँ हैं।

ऐसे इंतज़ार का फ़ायदा मुझे मिला, अगले ही 5 मिनट में सारे लोग सोनम के कैम्प से निकल के अपने अपने कैम्प्स में जाने लगे।

मोनिका और उसके दोस्त एक ही कैम्प्स में घुस गए, जो कि मोनिका के बॉयफ्रेंड का था। अगले ही 2 मिनट में सोनम का मेसेज मेरे फोन की स्क्रीन पर आया।

उसमें लिखा था, आज आपके साथ इतना पीने का मन कर रहा है कि आपकी बाँहों में बहक जाऊँ। बताइए आप आ रहे हैं मेरे कैम्प में या मैं आ जाऊँ।

मैं सोनम को अपने कैम्प्स में बुलाना सही समझा, क्योंकि उसकी कोई भी दोस्त उसके कैम्प में कभी भी आ सकती थी पर मेरे में नही आएगी।

मैंने सोनम को मेसेज किया कि आप मेरे कैम्प में चली आओ, अगर 5 मिनट में सोनम एक शॉल ओढ़ कर मेरे कैम्प में आई और अन्दर आते ही उसने शॉल को कोने में फेंक दिया।

Comments

Scroll To Top