सोनिया की सच्चाई

(Soniya Ki Sachhai)

सोसाइटी में एक मदमस्त लड़की को चोदने की लालसा रखे हुए था जिससे meri chudai होने का अच्छा अवसर मिला और उसकी चुदाई से पता चला की वह चुदी हुई थी..

मेरा नाम भोला है (बदला) हुआ मैं जमशेदपुर में रहता हूँ। मैं दिखने में काफी सीधा लगता पर मैं हूँ बड़ा सेक्स का दीवाना। सेक्स से जुडी बातें सोचता हूँ और मेरी सेक्स स्टोरी का नियमित पाठक हूँ, मुझे यहाँ की कहानियां पढ़ के बहुत अच्छा लगता है और मैंने काफी कुछ सीखा है यहाँ से ।

तो अब मैं अपनी कहानी पे आता हूँ। बात कुछ महीने पहले की है जब मैंने पहली बार सेक्स किया सोनिया के साथ।
सोनिया हमारे सोसाइटी में रहती थी। थी तो वह पतली दुबली पर उसकी खूबसूरती कातिलाना थी उसके पतले बदन पे दो बड़े बड़े बूब्स थे उसकी पतली कमर जानलेवा थी कुल मिलाकर एक माल थी।

मैं हमेशा उसको चोदने का सपना देखता था पर वो सच ना हो पा रहा था मैं बस उसके नाम से हिला लिया करता था। पर एक बार मैं गेट से जल्दी से निकल रहा था और वो कहीं से आ रही थी और हम टकरा गए और वो क्या एहसास था उसके बूब्स मुझसे टकराए।

एक बार तो जन्नत दिख गई पर मैं तो डर गया पर उसने एक स्माइल दी और चली गई मैं समझ गया की लाइन क्लियर है और एक दिन मैंने उसका रिचार्ज वाली से उसका नंबर मांग लिया और कॉल किया।
मैंने डरते डरते उसको अपना नाम बताया फिर सब ठीक हो गया और मेने उससे प्यार का इज़हार किया और धीरे सेक्स की बाते होने लगी हम फ़ोन सेक्स करते।

मैं उसको खिड़की पे बुलाता और फ्लाइंग किस दिया करता था। एक दिन मेरी किस्मत खुली उसका भाई बाहर गया हुआ था और उसके मम्मी पापा को एक दिन के लिए उसके ताउजी के यहाँ जाना पड़ा उसने मुझे कॉल करके कहा जान आजा आज हमारा सपना पूरा होगा।

मैं चुपके से उसके घर पे पंहूँचा ताकि कोई देख ना ले मैं एक शरीफ लड़का जो था। मैंने बेल बजाई तो उसने गेट खोला और अन्दर बुलाया मैं तो देखता रह गया पिंक टॉप और वाइट पायजामा में वो क़यामत लग रही थी। मैंने जाते ही उसको दिवार से सटा के उसके गुलाब से होंठों को चूसने लगा और वो ‘उह्ह.. उह्ह..’ की आवाज करने लगी।

पांच मिनट बाद मैंने उसके टॉप को हटा दिया और उसके तन का दर्शन किया काले ब्रा में उसके कलश चमक रहे थे, मैंने उसको दबाना शुरू कर दिया और उसने सिसकारियां ले ले कर मेरे 6″ के शेर को जगा दिया और उसने मेरा लोअर उतार के उसको हाथ पे ले लिया और सहलाने लगी।

मैंने धीरे धीरे उसके ब्रा को हटा के उसकी निप्पल को मुँह में लगा लिया और जोर जोर चूसने लगा वो गरम हो गई फिर मैंने उसका सारा कपडा उतार दिया। फिर उसके सारे बदन को चूमने लगा मैंने फिर उसकी पेंटी हटाई और देखता रह गया काले बालो के बीच उसकी गुलाबी सी चूत भीग गई थी।

मैंने झट से उसमे मुँह मारा वो तड़प उठी फिर मैं जोर जोर से चूसने लगा और वह सिसकारी लेने लगी और थोड़ी देर बाद उसने छोड़ दिया। मैंने सब पी लिया और फिर उसको मैंने अपना लिंग निकाल के दिया और चूसने को कहा तो वो नहीं मानी।

मैंने फिर उसके हाथ से हिलवाया ताकि ज्यादा देर सेक्स कर सकूँ थोड़ी देर बाद हम फिर से गरम हो गए। मैंने अपना लिंग उसके चूत पे सटा कर एक धक्का लगाया और वो पूरा चला गया मतलब वो चुदी हुई थी पर मैंने ना पूछा उसको और में धक्के लगाने लगा।

और वो कसमसा रही थी थोड़ी देर में मैंने तेज धक्के लगाने शुरू कर दिए क्या बताऊँ क्या सुख था वो लगा रहा था की टाइम रुक जाये। और कुछ धक्के के बाद वो सिकुड़ने लगी और गरम सा एहसास हुआ मुझे।
वो झड चुकी थी पर मैंने धक्के जरी रखा और 2 मिनट बाद मैं भी झड गया और उससे लिपट के लेट गया और उसको चूमने लगा और वो मेरे हेयर सहलाने लगी कहने लगी मेरा पहला सेक्स मुझे बहुत सुख दिया जान।

मैंने कहा पर तुम्हारे से तो खून नहीं आया उसने किस करके कहा जरुरी नहीं की हर किसी का खून आये कई बार किसी कारण से झिल्ली फट जाती है।
और मेरी मैंने कैंडल घुसा के फाड़ा है। मैं हमेशा घुसाती हूँ और मोटे मोटे सामान डाल लेती हूँ पर लिंग पहली बार खाया है फिर मैं समझा क्यूँ एक झटके में हो गया था।

फिर उसके बाद कई बार हमने किया पर अब वो चली गई है। आप अपने विचार मुझे मेल करे [email protected]

दोस्तों मैं जिस लड़की को पटाने की लालसा रखे हुए था उसके साथ meri chudai सेट हो गई और जब मैंने उसकी चुदाई करी तब उसकी चूत कुंवारी नहीं थी जिसकी सच्चाई उसने मुझे बताई जिसे इस कहानी के जरिये आपके सामने लाया.. कैसी लगी मेरी यह कहानी अपने खुले विचार कमेंट्स के साथ भेजें..

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top