ट्यूशन वाली भाभी को चोदा उसके घर

(meri sex stories Tuition Waali Bhabhi Ko Choda Uske Ghar)

मैं ट्यूशन वाली भाभी को बहुत पसन्द करता था और उनको चोदना चाहता था और एक दिन meri sex stories की घटना में उनके घर में उनकी चूत की धक्कापेल चुदाई कर डाली..

नमस्कार मित्रों,

मैं आपका राहुल एक बार फिर से हाजिर हूँ, मैं मेरी सेक्स स्टोरी की कहानियाँ बहुत पसंद करता हूँ और सभी कहानियों को बड़े चाव से पढ़ता हूँ।

आज मैं फिर से अपनी एक नई कहानी लेकर हाजिर हुआ हूँ। मैं अपने बारे में आपको बता दूँ। मेरी लम्बाई 5′ 7″ है, मेरे लण्ड की लम्बाई 8″ है और रंग साफ है।

मुझे चुदाई में बहुत रूचि है, अब मैं अपनी असली कहानी पर आता हूँ। मैं जब यूपी के इटावा शहर में रहता था, तब मेरी मुलाकात रजनी नाम की लड़की से हुई।

वो देखने में बहुत ही सुन्दर थी, रंग गोरा, चूतड़ उठे हुए, मस्त चूची, पतला शरीर देखो तो देखते ही रह जाओ। उनका फिगर मस्त था 34-30-36। मैं उनसे ट्यूशन पढ़ता था।

मैं उनको मन ही मन में चाहता और उनके साथ चुदाई करना चाहता था। उनके घर पर दो छोटे बच्चे और उनकी माँ रहती थी।

वो सुबह स्कूल पढ़ाने जाती थी और दोपहर में रजनी भाभी अकेली रहती थी। इस वजह से मैं दोपहर में ही पढ़ने के लिए जाता था।

एक दिन उनके पति 8,10 के लिए कहीं बाहर चले गए थे, बच्चे स्कूल में और माँ भी स्कूल में चली गई थी। घर पर रजनी भाभी अकेली थी।

मैं जब उनके घर पर पहुँचा तो दरवाजे पर हल्का सा धक्का मारा और वो खुल गया, शायद वो लगाना भूल गई थी। मैं अन्दर घुसा और आवाज़ लगाई- कहाँ हो भाभी?

इतने में वो बोल पड़ी- अभी मैं नहा रही हूँ! तुम बैठो, मैं नहाकर आती हूँ।

सेक्स में चूर मैंने भाभी को नंगा देखा

यह जानकर मैं उनकी बाथरूम की तरफ बढ़ा और दरवाजे की कोने से देखा, भाभी एकदम नंगी होकर नहा रही थी। मेरा तो उन्हें देखकर ही हालत खराब हो गया था।

अब मेरा लण्ड खड़ा हो चुका था, और मैं पागल हुआ जा रहा था। भाभी को चोदने का मूड बन गया था, मैंने उन्हें चोदने का पूरा मूड बना लिया।

अब भाभी जैसे ही नहाकर बाहर निकली, वैसे ही मैंने उनको पकड़ लिया और उनके होंठों को चूमने लगा। वो सिर्फ तौलिए में थी तो मैंने उनकी तौलिए को खींच दिया।

अब मैंने उनको दीवार के सहारे खड़ा किया और पीछे से उनकी गर्दन को चूमा, पीठ को चूमा, चूतड़ों को चूमा और जाँघों से लेकर पैरों तक चूमा।

वो अपनी आँखें बंदकर आहें भर रही थी पर अचानक, उन्होंने मुझे धक्का देकर अलग कर दिया।

वो अचानक हुए हमले से मुझे डांटने लगी और बोलने लगी- क्या कर रहे हो? तुमको शर्मनहीं आती। मैंने भाभी से सॉरी बोला और कमरे में आकर बैठ गया।

अब भाभी आर पार दिखने वाला गाउन पहन कर आई। उनका पूरा बदन दिख रहा था और वो बिल्कुल माल लग रही थी।

मैंने कहा- भाभी, आई लव यू! मुझे आप बहुत अच्छी लगती हो। अब मुझसे नहीं रहा जा रहा है।

भाभी की पूरे बदन को चूमने का आनन्द

भाभी यह सुनकर मुस्कुराई और मेरे बगल में चिपक कर बैठ गई। मेरी धड़कने तेज हो गई, मैंने हिम्मत करके भाभी के गाल पर चूम लिया दिया।

इसपर उन्होंने कोई विरोध नहीं किया, मेरी हिम्मत और बढ़ गई। अब मैं उनके होंठों पर, गाल पर, चूमने लगा और वो भी मेरा खुलकर साथ देने लगी।

अब मैंने उनको गोद में उठाया और बेड पर लिटा दिया, अब उनके सारे कपड़े उतार दिए। मैंने उनकी पूरे जिस्म पर चूमना शुरू कर दिया।

भाभी तेज़ी से साँसे लेने लगी और मेरा लण्ड उनकी चूत से टकरा रहा था। अब वो उठी और मेरा लण्ड पीने लग गई, और मुझे तो अब बहुत ही मज़ा आ रहा था।

वो मेरे लण्ड को गन्ने की तरह चूस रही थी, वो मेरे लण्ड को ऐसे चूम रही थी कि अब मेरे लौड़े को पूरा निगल ही जाएगी।

मैं अब बेकाबू हो गया और अपने लण्ड को जोर जोर से उसकी मुँह को चोदने लगा और अपना रस उसकी मुँह में छोड़ दिया और वो मेरा सारा वीर्य चाट चाट कर पी गई।

उसकी चूत जो पूरी गीली हो चुकी थी, मैं एक उंगली से उसकी चूत सहला रहा था और वो अपनी कमर हिला रही थी।

मैं झुका और पीछे से उनकी चूत में अपनी पूरी जीभ डालकर, जीभ से उनकी चूत को चोदने लगा और उंगली भी करने लगा। वो अचानक झड़ गई और मैं सारा रस पी गया।

कुछ देर बाद, हम दोनों ने एक दूसरे को खूब चूमा उसके बाद मैंने उनको घोड़ी बनाया। अब लौड़े को पीछे से उनकी चूत में सहलाने लगा।

भाभी की धक्केपेल चुदाई कर आशिक बनाया

एकाएक मैंने एक जोर का धक्का मारा और लण्ड को पूरा चूत में घुसा दिया। अब उनकी मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी- आह! उह्ह! चोदो! और जोर से! फाड़ दो चूत को!

Comments

Scroll To Top