औरत की आग 3

7 min read

लेखक – सुमित पहलवान
सम्पादिका – मस्त कामिनी

दो पल में, मैं बिल्कुल नंगा खड़ा था..

उनके सामने, मेरा 7 इंच का लण्ड, उनकी चूत को सलामी दे रहा था..

वो अभी भी, सोफे पर आधी लेटी हुई थी..

ब्लाउज आधा खुला था और साड़ी, ऊपर कमर तक थी..

मेरा लण्ड देख कर, वो सब कुछ भूल गई और लपक कर, मेरा लण्ड पकड़ लिया और बोली – वाह!! सुमित भैया, क्या मस्त लण्ड है, तुम्हारा…

अब वो एक हाथ से लण्ड पकड़ कर, दूसरे हाथ से सहलाने लगी..

मेरा लण्ड, बिल्कुल टन हुआ पड़ा था..

फिर उन्होंने मेरे लण्ड की चमड़ी ऊपर की, जिससे मेरे लण्ड का “लाल सुर्ख सुपाड़ा” बाहर आ गया..

मुझे कुछ दर्द तो हुआ, चमड़ी खींचने से पर क्या करें..

अगर पलंग पर पड़ी, अपनी गर्ल फ्रेंड या बीबी लोगों को नीरस, सीधी साधी, मासूम और अबोध लगती हो तो कभी जिगोलो बनके देखें..

“औरत की आग” क्या होती है, इस का असली एहसास तभी होगा..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

खैर, अब उन्होंने मेरे लण्ड के सुपाड़े पर अपनी जीभ फिराई और मैं मचल उठा..

फिर उसने जीभ फिराते हुए, गॅप से पूरा सुपाड़ा अपने मुंह में ले लिया और ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी..

मुझे भी, मस्ती आने लगी..

करीब 5 मिनट तक चूसने के बाद, उन्होंने अपने मुंह से मेरा लण्ड निकाल कर अपनी चूत पर रगड़ना शुरू किया..

मैं समझ गया की अब “असली चुदाई” का समय आ गया है..

मैंने उन्हें सोफे पर से, उठने के लिए बोला..

वो खड़ी हो गई तो मैंने उनके सारे कपड़े निकाल दिए और बिल्कुल “नंगी” कर दिया..

बिल्कुल “सूमो पहलवान” लग रही थी, वो..

मैंने उन्हें पकड़ कर ज़मीन पर लिटाने की कोशिश की तो वो बोली – नहीं सुमित… यहाँ नहीं, बेडरूम में चलो…

हम बेड रूम में पहुँचे और मैंने उन्हें, बिस्तर पर लिटा दिया..

वो, अपने दोनों पैर ऊपर कर के लेट गई..

मैंने अपना लण्ड उनकी चूत पर रख कर रगड़ा..

उन्होंने, अपनी आँखें बंद कर ली..

चूत, बहुत गीली हो चुकी थी..

कुछ देर चूत पर लण्ड रगड़ने के बाद, मैंने एक धक्के से अपना पूरा लण्ड उनकी चूत के अंदर कर दिया..

बिल्कुल आसानी से “सररर” से लण्ड अंदर चला गया..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

उनकी चूत में ज़रा भी कसावट नहीं थी मतलब बिल्कुल “भोसड़ा” हो चुकी थी..

मैं आगे पीछे हो रहा था पर चूत बिल्कुल फटी हुई होने के कारण, ज़रा भी मज़ा नहीं आ रहा था..

उन्हें भी और मुझे भी..

ऐसा लग रहा था, जैसे मैं बड़ी सी कड़ाही में चमच हिला रहा हूँ..

ऐसी स्थिति में, मैं जानता हूँ की क्या किया जाता है, मज़ा लेने के लिए..

दो तीन बार मैंने चालीस से ज़्यादा की औरतों को भी अपनी सेवाएँ दी हैं, जिनकी चूत बिल्कुल फटी हुई, एकदम भोसडे जैसी थी..

खैर, मैंने अपना लण्ड उनकी चूत में डाले हुए ही कुछ पीछे हुआ और उनके दोनों पैर अपनी कमर से हटाकर, नीचे सीधे कर लिए मतलब चित लिटा दिया..

मेरा लण्ड अभी भी उनकी चूत में था पर पैर सीधे हो जाने से, चूत में थोड़ी कसावट आ गई..

मेरा लण्ड, अब उनकी चूत की पंखुड़ियों के बीच फँस गया..

अब वो बिल्कुल सीधी बिस्तर पर लेटी थी और मैं उनके ऊपर, उनकी कमर के दोनों तरफ अपने पैर डाले और लण्ड को उनकी चूत में डाले हुए था..

अब मैंने अपना पूरा वजन उनकी चूत पर रख दिया और आगे पीछे होने लगा..

उन्होंने भी अपनी चूत को कसी हुई बनाने के लिए और अंदर तक भींच लिया और एक के ऊपर एक, पैर रख लिया..

मैं उनके ऊपर, आगे पीछे फिसल कर उन्हें चोद रहा था..

मेरा लण्ड उनकी जांघों के बीच, चूत में जम कर फँसा हुआ था तो मेरे लण्ड की रगड़ उनके चूत के दाने को छूने लगी..

अब उन्हें चुदाई का असली मज़ा आने लगा और मेरा लण्ड अब ऐसा महसूस कर रहा था मानो किसी 20 25 साल की टाइट चूत में हो..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

यही तो कमाल है, अपना..

फिर क्या था इस तरह मैंने जम कर उस फटी हुई चूत को कसावट वाली चूत बना कर, खूब चोदा..

उनकी भी आत्मा, तृप्त हो गई..

करीब 15 मिनट तक, मैंने उनकी चुदाई की..

इस दौरान, वो कई बार झड़ चुकी थी पर मैंने अभी तक चुदाई पूरी नहीं की थी..

कुछ देर बाद, मैंने उनकी चूत में से लण्ड बाहर निकाला और उन्हें उल्टा लेटने को कहा..

वो बिस्तर पर, गाण्ड मेरी तरफ करके लेट गई..

फिर मैंने अपना लण्ड, उनकी गाण्ड के छेद पर छुआया..

मैं देखना चाहता था की ये गाण्ड मारने देती है या नहीं..

अगर मना करना होगा तो टच करने पर ही, वो मना कर देगी पर उन्होंने मना नहीं किया और अपनी गाण्ड थोड़ी सी ऊपर कर दी और गाण्ड का छेद, ढीला छोड दिया मतलब मेरे लिए ये, गाण्ड मारने का न्योता था..

मैं समझ गया की इनके पति ने जम कर इन की गाण्ड मारी है और इस लिए इनके लिए, ये कोई नयी बात नहीं है..

दोस्तो, एक जिगोलो का तजुर्बा बता रहा हूँ की 10 में से सिर्फ़ 6 लड़कियाँ या औरतें होती हैं, जो गाण्ड मारने देती हैं..

खैर, मैं भी खुश हो गया..

बहुत दिन बाद, मैं किसी की गाण्ड मार रहा था क्यूंकी आजकल तो 6 क्या ज़्यादातर ऐसी ही मिल रही थीं, जो गाण्ड नहीं मारने देती थीं..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

मैं भी मान जाता हूँ..

अब ज़बरदस्ती तो कर नहीं सकता, आख़िर वो मेरी ग्राहक हैं..

मुझे उनका, हर तरह से ख्याल रखना होता है..

मेरी गर्ल फ्रेंड या मेरी बीवी थोड़ी ना है..

खैर, फिर मैंने गाण्ड के छेद पर लण्ड रखा और एक हाथ उनकी कमर के नीचे पकड़ कर, ज़ोर से धक्का दिया..

वो चीख पड़ी, पर मैं रुका नहीं और एक और धक्का दिया..

पूरा लण्ड, अंदर हो गया था..

वो मचल उठी..

उसे बहुत दर्द हो रहा था शायद अब उन्हें मेरे लण्ड का अहसास हुआ की क्या चीज़ है मेरा लण्ड..

चूत फटी हुई होने के कारण, उन्हें मेरे लण्ड का अंदाज़ नहीं था पर गाण्ड में जाते ही, वो समझ गई की मेरा लण्ड उनके पति से ज़यादा बड़ा और कठोर है..

फिर मैंने लगभग 10 मिनट तक, उनकी गाण्ड मारी..

बहुत मज़ा आया..

आख़िर में गाण्ड मारते हुए, मैंने अपनी रफ़्तार बड़ाई और धक्के मारते हुए, उनकी गाण्ड में ही छूट गया..

मुझे भी आनंद आ गया..

अब मैं उनके ऊपर निढाल हो कर गिर पड़ा और कुछ देर, ऐसा ही लेटा रहा..

लण्ड, अभी भी उनकी गाण्ड में ही था..

कुछ देर बाद, हम उठे और बाथरूम जा कर आए और अपने अपने कपड़े पहने ही थे की फोन की घंटी बज उठी..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

उन्होंने, फोन उठाया..

उनके पति का फोन था..

मेरी जिंदगी में वो एकलौती ग्राहक थी, जिसने अपने पति से बिंदास मेरी बात करवाई..

उसकी हिम्मत की, मैं भी दाद दे गया..

खैर, मैंने भी उसका भाई बनकर बात की..

फिर वो बोली – सुमित, मैं तो तुम्हें जाने नहीं देना चाहती थी… पर अब तुम जाना चाहते हो तो जाओ… तुमने मुझे वो सुख दिया है, जिसकी मैंने कल्पना तक नहीं की थी…

ये कहकर, वो मुझसे लिपट गई..

फिर कुछ देर बाद, मैंने बोला – मैं अब निकल जाता हूँ…

वो बोली – रूको, मैं आती हूँ… और, उन्होंने मुझे मेरे रूपए दिए..

एक बार फिर, उन्होंने मुझे अपनी बाहों मे भरा और मुझे जी भर के चूमा..

मैंने भी उन्हें माथे पर एक किस की या और दरवाज़ा खोल कर चला आया..

यदि आप भी चाहते हैं की आपकी कहानी इसी तरह मेरी सेक्स स्टोरी पर प्रकाशित हो तो बस नोटपैड पर हिन्दी या हिंगलिश में अपनी कहानी लिखिए और भेज दीजिये – [email protected] पर..

मेरी सेक्स स्टोरी को और बेहतर बनाने में हमारी मदद कीजिये और अपने सुझाव हमें लिख भेजिए – [email protected] पर..

Written by

मस्त कामिनी

Leave a Reply