चुदाई की न्यारी लीला!!

(meri sex stories Chudai Kee Nyaari Leela)

दोस्तो, आपने कभी कॉल गर्ल्स को चोद उसे तसल्ली दिया होगा, पर meri sex stories की इस घटना में मैंने एक कॉल गर्ल को इस कदर चोदा कि उसने मुझे ही कॉलबॉय बना दिया

ये कहानी आज से एक महीने पुरानी है। मेरा नाम राज है, 28 साल का एक जवान लड़का हूँ, दिखने में मैं ख़ूबसूरत भी हूँ।

हालांकि, काम में वयस्त रहने के कारण मैंने कभी कोई गर्लफ्रेंड नहीं बनायीं, क्योंकि काम में बिजी होने के कारण मेरे पास इतना टाइम नहीं होता कि मैं किसी को गर्लफ्रेंड बना के उसे टाइम दे सकूँ।

आप सब लोग जानते हैं कि आज कल गर्ल्स को टाइम देने वाला लड़का ही पसंद होता है।

ये कहानी आज से 6 महीने पहले, मैंने एक कॉल गर्ल को चोदा था उससे शुरू होती है। लेकिन उससे मेरी सन्तुष्टि नहीं हुई।

मैं एक ऐसी लड़की की तलाश करने लगा जो मुझे संतुष्ट कर सके। आखिर एक दिन आ ही गया, जब मुझे दोबारा किसी लड़की को चोदने का मौका मिला।

एक दिन मेरे दोस्त और मेरा प्रोग्राम बना कि कल एक कॉल गर्ल बुलाते हैं और फिर उसकी चुदाई करेंगे।

मेरे काम में बिजी होने के कारण मैं जा नहीं सका। दोस्त ने लड़की बुलाई और उसकी चुदाई की।

अगले सप्ताह मैं फ्री था, तो मैंने अपने दोस्त को कह दिया कि अबकी बार मैं फ्री हूँ, तू किसी लड़की का जुगाड़ करवा दे।

तब उसने कॉल किया और किसी लड़की से बात कर के बात पक्की कर ली। अगले दिन मैं उसके बताये हुए ठिकाने पे पहुँच गया।

वहाँ होटल में मेरा कमरा बुक था तो मैं उस कमरे में गया। थोड़ी देर बाद, वहाँ पे एक लड़की आई और आकर उसने दरवाज़ा बंद कर दिया।

मुझे कहने लगी, इस कमरे में मुझे बहुत डर लगता है। कहीं कोई हमें ये सब करते हुए देख ना ले।

मैंने उसे कहा कि कुछ नहीं होगा, टेन्स मत लो। उसके बाद उसने पास में पड़ा हुआ गिलास उठाया और पानी पिया।

ये बोलकर अपने कपड़े उतारने लगी। कपडों में ही क्या मस्त आईटम लग रही थी साली। ‘

क्या बताऊँ एकदम सोनाक्षी 36 के चूचे और 28 की कमर और 34 की गांड। बड़ी ही मस्त माल थी।

मेरा लंड उसका फिगर देखते ही खड़ा होने लगा। उसने अपने गोरे बदन पे काली सलवार काली कमीज पहनी थी।

उसने अपनी कमीज उतार के एक साइड में रख दी और जैसे ही सलवार उतारी, मैं उसको देखता ही रह गया।

आप समझ गए होंगे, कि क्या महसूस हो सकती हैं उस टाइम किसी लड़के के साथ जब वो अपने मन की मुराद पूरी करने जा रहा हो।

वो फिर वहीँ पे पलंग पे लेट गयी और मैंने भी अपने कपड़े उतारे और उसके बगल में लेट गया।

क्या बताऊँ दोस्तों! क्या लग रही थी वो, जैसे आसमान से उतरी हुई कोई अप्सरा हो।

मैंने अभी अपना अंडरवियर पहना हुआ था और उसने भी अपनी ब्रा और पैंटी पहन रखी थी। उसके चूचे उसके ब्रा से बाहर आने को तैयार थे।

मैंने उसको अपने पास आने का इशारा किया और वो मेरे करीब आकर लेट गयी। मैंने उसके लिप्स पे किस करना शुरू किया और उसने भी मेरा साथ देना शुरू किया।

क्या पल था वो दोस्तों, जो मैं उसके रस भरे होंठों का रस पी रहा था। मैंने उसके बूब्स को दबाना शुरू किया तो उसको हल्का हल्का दर्द होने लगा।

प्लीज जरा धीरे दबाओ दर्द होता है! फिर उसको पेट के बल लिटा कर उसकी कमर पे किस करने लगा।

ऐसा लग रहा था, जैसे पता नहीं वो कितने दिन से प्यासी हो! आज दिल खोल के अपनी प्यास बुझाना चाहती हो।

मैंने धीरे से उसकी ब्रा का हुक खोल कर, उसकी ब्रा को उसके जिस्म से अलग कर दिया। उसके बाद सीधा लिटा कर उसका एक चूचा मुँह में लेकर चुसना शुरू कर दिया।

वो बिना पानी की मछली की तरह तड़पने लगी।आह! आह! आह! सी! सी! सी! की आवाज़ें उसके मुँह से निकलने लगी।

मेरा लंड टाइट हो कर पूरा खड़ा हो चुका था। मैं धीरे धीरे नीचे की तरफ किस करता हुआ जाने लगा।

उसकी जाँघ को किस किया और फिर उसकी पैंटी भी उतार कर एक तरफ रख दी। क्या नज़ारा था दोस्तों! एक दम मस्त क्लीन चूत एक भी बाल उसकी चूत पे नहीं था।

मैंने उसकी चूत को अपने हाथ से खोला और चूत की दोनों फाँकों को अलग किया और एक उंगली उसकी चूत में डाली तो उसके मुँह से आह की आवाज़ निकल गयी।

अब मुझसे भी सहन कर पाना मुश्किल हो रहा था, तो मैंने भी अपना अंडरवियर निकाला और एक साइड में रख दिया।

मैं धीरे से उसकी चूत को देखा, तो उसकी चूत गीली हो चुकी थी। मैंने अपने लंड को उसकी चूत पे रख कर धक्का दिया, तो उसने आह की आवाज़ के साथ मेरा लंड अपनी चूत में ले लिया।

Comments

Scroll To Top