मां रंडी बेटी छिनाल 1

6 min read

Meri Sex Story Par Ek Maa Beti Ke Lesbian Sambhand Aur Randibaazi Ki Behad Kamuk Kahani…

लेखिका – रुपाली

मेरी पिछली कहानी “पति पर हो क़र्ज़ तो बीवी का चुदने का है फ़र्ज़” मे आपने पढ़ा –

सुबह हो चुकी थी..

मैं और मम्मी नंगी बेड पर चिपक कर सोए हुए थे..

हम दोनों की नींद खुली.

मम्मी ने मुझे लीप किस की और गुड मॉर्निंग कहा..

मम्मी तो अब रंडी बन चुकी थी, फैक्ट्री पे उनके चुदाई के बाद..

मैंने मम्मी को बताया की मम्मी वो लोग मुझे भी चोदना चाहते हैं और मैंने मम्मी को कहा – मम्मी, क्यों ना हम इस बात का फायदा उठाएँ और उन्हें अपने जिस्म का गुलाम बनाए..

मम्मी ने कहा – ठीक है, आख़िर हमें पैसे भी चाहिए और मर्द भी.. हमें ये करना पड़ेगा..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

फिर मम्मी ने कहा – ठीक है.. तुम तैयार हो जाओ.. मैं नाश्ता बनाती हूँ..

मैं बाथरूम जा कर नहाने लगी.

मम्मी ने नाश्ता बनाया और वो नहाने चली गई तभी चाचा जी आए और कहा – बेटा, कैसे हो..

मैं समझ गई की ये पता लगाने आए हैं की मम्मी कहीं पुलिस को तो ना कुछ बता दें..

मैंने उन्हें कहा – बैठिए अंकल, क्या लेंगे कोफ़ी या नाश्ता..

चाचा जी थोड़े डरे से लग रहे थे और पूछा – संध्या कहाँ है..

मैंने कहा – मम्मी तो बाथरूम में है..

उन्होंने पूछा – उन्होंने कुछ बताया क्या..

मैंने कहा – हाँ..

चाचा जी घबरा गये और पूछा – क्या..

मैंने कहा – वो बहुत खुश थी कल रात.. कहा था की आप लोगों ने बहुत हेल्प की मम्मी की अकाउंट्स देखने में..

चाचा जी खुश हो गये और बोलने लगे – क्या संध्या खुश थी..

मैंने कहा – हाँ अंकल.. वो तो आप की बहुत तारीफ कर रही थी.. आप बहुत स्पीड से काम करते हो..

चाचा जी खुश हो गये और कहा – ठीक है तो मैं चलता हू.. और मेरी लिप्स को देखने लगे..

मैंने कहा – क्या हुआ चाचा..

उन्होंने कहा – कुछ नहीं बेटी.. तुम लिपस्टिक कम लगाया करो..

मैंने कहा – ठीक है, अंकल और वो चले गये..

मम्मी बाथरूम से आई और तैयार हो गई, क्लिनिक जाने को..

मैंने कहा – मम्मी योगा ट्रेन करने नहीं जाओगी.. तो उन्होंने कहा – नहीं.. और पूछा – कोई आया था क्या..

तो मैंने कहा – हाँ चाचा जी आए थे..

मैंने कहा की कल आप बहुत खुश थे..

मम्मी हँसने लगी बोली – रिवेंज तो लेनी ही पड़ेगी और मम्मी, क्लिनिक चली गई और मैं कॉलेज चली गई.

शाम को आने के बाद मम्मी रेडी हो गई..

मुझसे कहा – जल्दी तैयार हो जाओ.. हमें जल्दी जाना पड़ेगा.. उन लोगों के आने के पहले..

मैं बिना किसी की नज़रों में आए अंदर आ चुकी थी..

मम्मी की टेबल नीचे से पूरी ढँकी थी..

मैं मम्मी के टेबल के नीचे घुस गई और मम्मी कुर्सी पर बैठ गई और अकाउंट्स चेक करने लगी..

मुझसे रहा नहीं गया.

मैंने मम्मी के साड़ी के नीचे से अपनी हाथ अंदर डाल दिया और उनकी चूत पे उंगली करने लगी.

मम्मी कहने लगी – रुपाली रात में करेंगे ना.. अभी क्या जल्दी है..

मैंने मम्मी से कहा – मम्मी, चाचू से वो सेक्स मेडिसिन माँग लेना..

मम्मी ने कहा – ठीक है..

मैं नीचे बैठी हुई थी तभी किसी के आने की आवाज़ आई..

मैं चुपचाप बैठ गई.

वो तीनों लोग आए और मम्मी से कहने लगे – हमें माफ़ का दीजिए.. हम लोग आपसे बहुत प्यार करते हैं..

मम्मी कहने लगी – मैं पुलिस को बता दूँगी..

वो लोग डर गए पर चाचा जी को पता था की मम्मी रंडी है..

उन्होंने कहा – बोलो क्या चाहिए आपको..

मम्मी ने कहा – एक डील करते हैं..

चाचू ने कहा – जीतने चाहो, पैसे ले लो.. पर पुलिस में कंप्लेंट मत करना..

मुकुल अंकल ने कहा – ठीक है बोलो क्या है डील..

मम्मी ने कहा – मेरी दूसरी शादी करवानी पड़ेगी..

ऋषभ अंकल ने कहा – मानते हैं आप बहुत बहुत सेक्सी हो पर दूसरी शादी क्यों..

चाचा ने कहा – पागलो समझे नहीं संध्या को मर्द की ज़रूरत है मतलब मेरी..

चाचा जी कहने लगे, मैं संध्या से शादी करूँगा मगर सीक्रेट्ली..

तभी ऋषभ और मुकुल चाचा पे गुस्सा हो गए और बोले – तो हम लोग क्या करेंगे.. हमें भी संध्या चाहिए..

मम्मी ने कहा – खामोश कमीनो..

सभी लोग चुप हो गए.

मम्मी बोली – डील ये है की शादी तो मैं तुम तीनों से करूँगी पर मुझे तुम्हारे कमाई के 40% मंथली चाहिए..

सभी ने आसानी से हाँ कह दी और डील पक्की हो गई.

सभी लोग खुश हो गए और कहा – चलो स्टोर रूम.. आज से तो तुम हमारी पत्नी बन चुकी हो..

मम्मी ने कहा – सभी नौकरों को यहाँ से जाने को बोलो.. आज तो यहीं चुद जाउंगी..

नौकरों को चाचा जी ने भेज दिया और रूम लॉक कर दिया..

मम्मी कुर्सी से उठी और खड़ी हो गयी.

टेबल के सामने चली गई.

मैं तो उतावली हो चुकी थी.

मम्मी को चुदते देखने में.

मैं नीचे से पूरा नज़ारा देख पा रही थी..

मम्मी नंगी खड़ी हुई थी..

सभी लोग नंगे हो गये और मुकुल और ऋषभ अंकल झुक कर मम्मी की फुददी और चूत चाटने लगे..

चाचा जी मम्मी के बड़े बूब्स को दबाने लगे.

मम्मी को किस करने लगे.

मम्मी अजीब अजीब सी आवाज़ निकालने लगी.

आ अह ह उम्म्म ह हा न्ं स स्द्द्ड क्श्कश..

फिर उन्होने मम्मी को नीचे सुला दिया और वो लोग जानवरों की तरह मम्मी के जिस्म को चाटे जा रहे थे.

मम्मी पूरी रंडी होती जा रही थी.

मम्मी खुद ही डॉगी स्टाइल में बैठ गई और ऋषभ अंकल और मुकुल अंकल मम्मी की मुंह की चुदाई कर रहे थे, बारी बारी से..

मुंह में बड़े रफ़्तार से चोद रहे थे.

चाचा जी मम्मी की गाण्ड की चुदाई कर रहे थे.

कभी मम्मी के नीचे से चूत चोद रहे थे.. मम्मी का तो स्यम्बर हो रहा था और वो पूरा मज़ा ले रही थी.

सभी लोग बारी बारी चोदने लगे..

बाद में सभी थक कर सो गए..

चाचा ने कहा – चलो.. अब चलते हैं..

मम्मी नंगी ज़मीन पर गंदी आवाज़ निकलते हुए पड़ी रही..

वो लोग चले गये.

मैं उठी दरवाज़ा बंद किया.

मम्मी को उठाया और साड़ी पहना के तैयार किया.

मम्मी बहुत खुश थी.

फिर हम दोनों घर आ गये..

मेरी कहानी जारी रहेगी…

Meri Sex Story Par Kahaniya Pasand Aane Par Unhe “Star Rating” Dena Na Bhule…

Written by

मस्त कामिनी

Leave a Reply