मां रंडी बेटी छिनाल 2

6 min read

Meri Sex Story Par Maa Randi Beti Chinal Ke Jabardast Response Ke Liye Rupali Ko Badhai…

लेखिका – रुपाली

सभी लोग नंगे हो गये और मुकुल और ऋषभ अंकल झुक कर मम्मी की फुददी और चूत चाटने लगे..

चाचा जी मम्मी के बड़े बूब्स को दबाने लगे.

मम्मी को किस करने लगे.

मम्मी अजीब अजीब सी आवाज़ निकालने लगी.

आ अह ह उम्म्म ह हा न्ं स स्द्द्ड क्श्कश..

फिर उन्होने मम्मी को नीचे सुला दिया और वो लोग जानवरों की तरह मम्मी के जिस्म को चाटे जा रहे थे.

मम्मी पूरी रंडी होती जा रही थी.

मम्मी खुद ही डॉगी स्टाइल में बैठ गई और ऋषभ अंकल और मुकुल अंकल मम्मी की मुंह की चुदाई कर रहे थे, बारी बारी से..

मुंह में बड़े रफ़्तार से चोद रहे थे.

चाचा जी मम्मी की गाण्ड की चुदाई कर रहे थे.

कभी मम्मी के नीचे से चूत चोद रहे थे.. मम्मी का तो स्यम्बर हो रहा था और वो पूरा मज़ा ले रही थी.

सभी लोग बारी बारी चोदने लगे..

बाद में सभी थक कर सो गए..

चाचा ने कहा – चलो.. अब चलते हैं..

मम्मी नंगी ज़मीन पर गंदी आवाज़ निकलते हुए पड़ी रही..

वो लोग चले गये.

मैं उठी दरवाज़ा बंद किया.

मम्मी को उठाया और साड़ी पहना के तैयार किया.

मम्मी बहुत खुश थी.

फिर हम दोनों घर आ गये..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

मैंने मम्मी से कहा – मम्मी हम तो मालामाल हो गए..

मम्मी ने कहा – अब तो एक काम बाकी है..

मैंने पूछा – क्या..

मेरी शादी..

मैंने पूछा – तो क्या सच में शादी करोगी..

तो मम्मी ने कहा – करूँगी, पर सीक्रेट्ली..

मम्मी एक दुल्हन की तरह तैयार हो गई और चाचा जी से सभी लोगों को आने को कहा और चारों को मंगलसूत्र औल फूल के हार लाने को कहा.

वो लोग मान गये. तब मैंने पूछा – मम्मी, मैं कहाँ रहूंगी..

मम्मी ने कहा – तुम खिड़की के पीछे से देखना..

मम्मी और मेरे रूम के बीच में एक खिड़की थी जहाँ से सब दिखता था.. मैं अपने रूम में चली गई..

वो लोग आ गये.

उन्हें मम्मी ने बेडरूम में ले आया.

चाचा ने पूछा – रुपाली तो नहीं है ना घर पे..

तभी मम्मी ने कहा – नहीं वो अपने दोस्त के घर पर पढ़ाई कर रही है और मां ने रूम के बीच में पापा की फोटो रख दी.

सभी लोग देखने लगे.

ये आप क्या कर रही हैं…

मम्मी ने कहा – शादी, आप लोगों से..

सभी के पास मंगलसूत्र था, फूल की माला थी..

मम्मी ने कपड़े उतार दिए. उन्होने लाल रंग की ब्रा और पैंटी पहनी थी.

मम्मी के बूब्स और गाण्ड बहुत सेक्सी लग रहे थे. सभी लोग भी नंगे हो गये.

मम्मी ने ऋषभ को बुलाया..

ऋषभ के 9 इंच के लण्ड को पकड़ के मम्मी हिलाने लगी और ऐसे ही लण्ड को हिलाते हिलाते पापा की फोटो की 7 फेरे ले लिए..

लास्ट में घूमने के बाद ऋषभ के लण्ड को चूसने लगी..

10 मिनिट बाद ऋषभ के लण्ड से निकला पानी मम्मी ने अपने सिर पर सिंदूर की तरह लगा लिया..

ऋषभ ने मम्मी को उठाया और चोदने लगे..

पापा के फोटो के सामने मम्मी एक कुतिया की तरह चिल्ला रही थी.

उसके बाद ऋषभ बेड पर लेट गये..

मम्मी ने चाचू को बुलाया चाचू जी ने कहा – मैं तुम्हें चोदते हुए 7 फेरे लेना चाहता हूँ..

मम्मी झुक गई..

चाचू ने अपना फौलादी लण्ड मम्मी के चूत में घुस्सा दिया और मम्मी की मुंह से आ अह ह उ की आवाज़ें आने लगी.

उन्होने मम्मी को चोदते हुए पापा के तस्वीर के 7 फेरे ले लिए..

लास्ट में मम्मी को प्टक कर चोदने लगे..

जब चाचू के लण्ड का पानी बाहर निकाला तो उस पानी को अपने सिंदूर की तरह लगा लिया और चाचू बेड पे सो गये.

मुकुल अंकल आए और बोले – मैं तुम्हें अपने लण्ड पे बिठा के 7 फेरे लूँगा और वो मम्मी को लण्ड पे बैठा कर चोदते हुए पापा के फोटो के 7 फेरे ले लिए..

मम्मी उनकी लण्ड को चूस रही थी..

उनके लण्ड के पानी को सिंदूर की तरह लगा के उसे जल की तरह पी गई..

फिर सभी लोग उठ गये..

मम्मी ने कहा की मंगलसूत्र पहनने के पहले मेरे पति की मंगलसूत्र निकलनी पड़ेगी.

तभी ऋषभ ने कहा – तुम नीचे बैठ जाओ..

मम्मी बैठ गई..

ऋषभ ने कहा – अपने लण्ड से मम्मी के गले में पड़े मंगल सूत्र को निकालने लगे.

फिर एक साथ सभी ने अपने फौलादी लण्ड खड़ा करके मम्मी के गले में मंगल सूत्र अपने लंडो में फसाया और तीन लंडो से मंगलसूत्र निकाल दिया और तीनों लोगों ने एक एक करके मम्मी के गले में मंगलसूत्र डाला.

मम्मी के गले में अब तीन मंगलसूत्र थे.

अब से मेरे तीन पिताजी बन गये.

मेरी मम्मी एक नयी दुल्हन बन गई.

चाचा जी ने सेक्स मेडिसिन का एक डब्बा मम्मी को दे दिया और बोला – अब से ये तुम रख लो.. तुम्हें घर आ के ही चोदगें..

मम्मी नीचे ही सो गई और नंगी ज़मीन पर पड़ी रही..

वो लोग अपने इस महीने की कमाई के 40% पैसे मम्मी के नंगे जिस्म के ऊपर डाल कर चले गये.

मम्मी ज़मीन पर एक नंगी अप्सरा की तरह पड़ी रही और पैसे उनके ऊपर बिखरे थे..

मैं उनके जाने के बाद आई और पैसे उठाने लगी..

मेरी मम्मी तो पॉर्न स्टार की तरह लग रही थी..

मैंने पापा के फोटो को उठा कर रख दिया और मम्मी को सेक्स मेडिसिन पीला दी..

मैं भी पी गई..

मम्मी को बेड पे लिटा के रात भर हम दोनों लेज़्बीयन की तरह एक दूसरे को चाटते रहे और बूब्स दबा दबा कर चूत चाटते रहे..

रात भर अपनी उंगली करके सुबह उठे..

मम्मी मेरी चूत पे मुंह रख कर सो गई थी.

मैंने मम्मी को उठाया और पैसे गिनने लगे..

हमें 60,000 रुपये मिल चुके थे जो सिर्फ़ मम्मी की कमाई थी.

मुझे मम्मी से जलन होने लगी, मैंने मम्मी के बूब्स को नोचा और पूछा – साली रंडी कुतिया सिर्फ़ आप चूत मरवाती रहोगी तो मैं कब लंड लूँगी.

मम्मी गुस्सा हो कर बोली – वो मेरे मर्द हैं वो सब तुम्हारे पिता है और तुम उनकी बेटी..

मैने कहा – छीनाल की औलाद तू भी तो मेरी मां है..

मम्मी मतलबी हो चुकी थी.

मैंने मम्मी को कहा – हमारे बीच में ये सब रिश्ते ख़त्म हो चुके हैं.. तुम और मैं सिर्फ़ रंडी हैं..

मम्मी गुस्सा हो कर मुझे मारने लगी और मुझे पीट कर चली गई..

अब मैंने सोच लिया मम्मी के इस सेक्सी होने के गरूर को तोड़ना पड़ेगा.

अब मैं बताउंगी अपने मम्मी को की मैं क्या चीज़ हूँ और उन तीनों लोगों को अपनी चूत की गुलाम बनके मम्मी को दिखा दूँगी की मैं भी उसकी ही बेटी हू..

फ्रेंड्स मेरे अगले पार्ट में मेरी और मम्मी के बीच में दुश्मनी है..

इंतेज़ार कीजिए, मेरे अगले भाग का..

Padhte Rahiye Meri Sex Story…

Written by

मस्त कामिनी

Leave a Reply