शानदार चूत 2

5 min read

Meri Sex Story Par Prakshit Koi Bhi Story Aap Apne Dosto Se Share Kar Sakte Hain Face Book, Twiiter Ya Google + Par… Story Share Karne Ke Liye Bas Click Kijiye “Share” Button Par…

लेखक – सुमित पहलवान
सम्पादिका – मस्त कामिनी

वो बहुत बड़ी जगह थी और पार्टी भी शानदार थी..

उसने बताया की ये दो आजू-बाजू महल नुमा कोठी देख रहे हैं, आप…

मैंने कहा – हाँ…

तो वो बोली की एक कोठी में लड़की वाले रुके हैं और एक में लड़के वाले… हम सभी के लिए, अलग अलग रूम दिए गये है… अब स्टेज प्रोग्राम ख़तम होने के बाद, फेरे आदि का कार्यक्रम है… जहाँ ये कार्यक्रम होना है, उधर ही मेरा रूम है… यहाँ बहुत से लड़के लड़कियाँ हैं, किसी को कोई शक नहीं होगा की आप किस की तरफ से यहाँ आए हुए हैं… मेरा मतलब है, लड़के वालों की तरफ से या लड़की वालों की तरफ से और यहाँ इतनी भीड़ है की किसी को किसी के बारे में सोचने का समय नहीं है…

मैं ध्यान से उसकी बातें सुन रहा था..

वो ये सब मुझसे बोल तो रही थी पर बोलते बोलते, उसकी साँसें फूल रही थी..

मैं उस की स्थिति समझ रहा था..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

फिर उसने मुझे बताया की मैं “मांगलिक” हूँ… इस वजह से, अभी तक मेरी शादी कहीं तय नहीं हो पाई है… मेरे साथ की सब लड़कियों की शादी हो चुकी है और अब तक तो उनके बच्चे भी हैं… पर इस उम्र में मेरा क्या हाल हो रहा होगा तुम समझ सकते हो, इस लिए मैंने तुमसे संपर्क किया… पर सुमित, ये हमारी पहली और आखरी मुलाकात होगी…

मैं उसकी सब बातें सुनने के बाद बोला की अगर, कभी आप मार्केट जाती हैं और अगर आपका जूस पीने का मन होता है तो आप दुकान पर जाकर जूस पीती हैं, पैसे देती हैं और घर आ जाती हैं… है ना…

वो बोली – हाँ, है तो…

एक बात बताइए, आप वो गिलास क्यूँ नहीं लाती साथ में जिसमें आपने जूस पिया… – अब मैंने पूछा..

तो वो बोली – गिलास नहीं खरीदा था… उसमें डाला हुआ, जूस खरीदा था…

अब मैंने कहा – हाँ जी… ऐसे ही, आपने मेरी सर्विस खरीदी है… मुझे नहीं… मुझे आप से आज के बाद, कोई मतलब नहीं रहेगा… आप बेफ़िक्र रहें…

वो मुस्कुराने लगी..

मैंने फिर पूछा – एक बात बताइए… क्या आपका कोई बॉय फ्रेंड नहीं है…

वो बोली – जी नहीं…

मैंने पूछा – पर आप तो काफ़ी सुंदर हैं… फिर ऐसा क्यूँ…

वो बोली – पता नहीं… किस्मत शायद… कभी बात इतनी आगे बढ़ ही नहीं पाई…

हम लगभग 30 मिनट तक यूँही, इधर उधर बातें करते रहे..

इस बीच, दूल्हा दुल्हन उस कोठी की तरफ जाने लगे, जहाँ मंडप बना हुआ था और उधर ही, इनका रूम था..

वो बोली – चलो, अब उठो और साथ में चलो…

हम भी दूल्हा दुल्हन की भीड़ के साथ शामिल हो गये..

कोठी अंदर से बहुत शानदार थी.. बिल्कुल, सीरियल के किसी सेट की तरह..

हम अंदर पहुँचे तो कुछ भीड़ मे शामिल लोग, इधर उधर हो गये..

कुछ लड़के लड़कियाँ कपड़े बदली करने के लिए, अपने अपने रूम में जाने लगे..

दूल्हा दुल्हन और 4-5 लड़के लड़कियाँ, मंडप के पास बैठ गये..

बबिता ने मुझे इशारा किया और हम भी सामान्य हो कर, रूम की तरफ भीड़ के साथ चले गये..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

बबिता ने दरवाजा खोला और अंदर हो गई..

मैं कुछ दूरी पर था, मौका देख कर मैं भी अंदर हो गया..

वो एक बड़े होटल की तरह का रूम था..

बड़ा बेड था और टीवी, फोन आदि रखे हुए थे..

रूम, महक भी रहा था..

उसने “ए सी” चालू कर दिया..

बाथ रूम का दरवाजा खुला हुआ था..

मैंने झाँक कर देखा तो बहुत बड़ा और सुंदर बाथरूम था, वो..

अब हमने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया..

मैं बेड पर बैठ गया और अपने जूते निकाल कर, बेड पर दीवार से पीठ टीका कर लेट गया..

मैं कुछ थका हुआ सा भी महसूस कर रहा था..

मैंने टीवी चालू किया और देखने लगा..

बबिता बेड के पास खड़ी हुई थी और मुझे ऊपर से नीचे तक देखे जा रही थी..

उसकी साँस लेने के कारण, उसके मम्मे ऊपर नीचे हो रहे थे..

मैंने उसकी तरफ हाथ बढ़ाया..

कुछ देर बाद, उसने मेरा हाथ पकड़ा तो मैंने उसे बेड पर खींच लिया..

वो बड़ी अदा से, मेरे सिने पर गिर पड़ी..

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

अब हम आधे लेटे हुए थे..

उसका सर मेरे सिने पर था..

एक हाथ से, मैं उसे थामे हुए था और अब एक हाथ से मैंने उसके गालों को छुआ..

उसने, फ़ौरन आँखें बंद कर लीं..

वो उस वक़्त तक, शादी के हिसाब से दुल्हन की तरह सजी हुई थी..

कहानी जारी रहेगी.. ..

यदि आप भी चाहते हैं की आपकी कहानी इसी तरह मेरी सेक्स स्टोरी पर प्रकाशित हो तो बस नोटपैड पर हिन्दी या हिंगलिश में अपनी कहानी लिखिए और भेज दीजिये – [email protected] पर..

मेरी सेक्स स्टोरी को और बेहतर बनाने में हमारी मदद कीजिये और अपने सुझाव हमें लिख भेजिए – [email protected] पर..

Meri Sex Story – Shandaar Chut 2

Written by

मस्त कामिनी

Leave a Reply