एक रियल लव स्टोरी 2

8 min read

Meri Sex Story Par Simran Ji Ko Sirf 24 Ghante Me 100 Se Jyada Response Mile… Aap Bhi Padhiye Unki Love Fuck Story Aur Enjoy Kijiye…

लेखिका – सिमरन

मुझे और भी ज़्यादा उत्तेजना होने लगी और मेरे मूँह से ना जाने कैसी सिसकारियाँ निकालने लगी.

आ आ आ आ आ आ आहह सस्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स्स्स्स्स्स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स्स्सस्स…

जिसे सुन कर, समीर भी उत्तेजित हो गया था.

उसने कब मेरी कमीज़ मे हाथ डाल दिया मुझे पता ही नहीं लगा और अब वो मेरे बूब्स को ब्रा के ऊपर से दबा रहा था..

मुझे मज़ा आने लगा था और हम इतने उत्तेजित हो गये की मैंने खुद अपनी कमीज़ और ब्रा उतार दी और समीर का मुँह अपने बूब्स पर दबा लिया.

वो मेरी एक चुचि चूस रहा था और एक को बुरी तरह से मसल रहा था..

मेरे मुँह से बस सिसकारियाँ ही निकल रही थी.

ऊ ऊऊ ऊ ऊऊ ऊ ऊऊ ऊ ऊ ओह सम्म्म्म मीई ईई ररर… ये तुमने क्या किया, तुमने कहा था की तुम ऐसा नहीं करोगे… स स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स्स्स्स्स् सस्स… आहह आह…

समीर – जानेमन, मैंने क्या किया है… मैंने तो कुछ भी नहीं किया, तुमने ही अपने कपड़े उतारे हैं…

मस्त कहानियाँ हैं, मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर !!! !!

सिमरन – समीर तुमने जो किया उसने मुझे इतना उत्तेजित कर दिया के मैं रह नहीं पाई… अब प्लीज़ देर मत करो, मेरे बदन मे आग लग रही है… इसे जल्दी से बुझा दो… आह ह आह ह… लव यू सो मच…

फिर समीर ने मेरा लोवर भी उतार दिया और अब मैं उसके सामने सिर्फ़ पैंटी मे थी..

उसने मेरे पैर से मुझे चूमना शुरू किया और चूमते चूमते, मेरी चूत पर आ गया उसके ऐसा करने से मेरे पूरे बदन मे करेंट सा दौड़ रहा था और मेरी चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी और मैं ऐसे तड़प रहीं थी जैसे “जल बिन मछली”.

समीर ने मेरी चूत पर अपना मुँह रखा और पैंटी के ऊपर से ही चूमने लगा.. मुझे तो ऐसा लगा जैसे आज मैं तड़प तड़प कर ही मर जाउंगी..

उसके बाद, समीर ने मेरी पैंटी भी उतार दी और मैं उसके सामने बिल्कुल नंगी थी.

समीर ने मेरी चूत चाटना शुरू कर दिया.. वो अपनी जीभ जब अंदर ले कर जाता तो मैं तड़प कर रह जाती और बस उसके मुँह को अपनी चूत मे दबा देती..

ऊ ऊऊ ऊ ऊऊ ह ह समीर र रर तुम बहुत प्यारे हो… आ आआ आ आ आ आ आ आ आ आ आ हह बहुउत्त्त्ट टटट तत्त मज्ज़ ज़ ज्ज्ज्ज्ज् ज्ज्ज्ज्ज् ज्ज्ज्ज्जा आा आ आ आ आ आ आ आ आ आ आ आ आ आ आ आ रहा आ आ आ आ आ आ आ आ आ हाई ई ईई ई ईई ई ईई ई ईई ई ईई ई ईई ई ईई ई ईई ई ईई ई… और समीर ऐसे ही मेरी चूतत्टटट टटट तत्त चहाआ आ आ आ आ टत तत्ट टटटटटटटट तत्त रहा था…

10 मिनिट के बाद, मेरा शरीर एक दम से अकड़ गया और मैं झड़ गई और समीर मेरा सारा रस पी गया..

मैं इससे पहले कभी जब उत्तेजित होती थी तो अपनी फिंगर से खुद को शांत कर लिया करती थी, पर आज मज़ा ही कुछ और था.

उसके बाद समीर ने अपने कपड़े उतार दिए और उसका फनफनता हुआ लंड मेरे सामने आ गया..

वो बहुत बड़ा था.. करीब 7 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा..

उसे देख कर मैं घबरा गई.. समीर ये देख चुका था और उसने मुझे कहा – जान, घबराओ नहीं… मैं बहुत आराम से करूँगा… तुम्हे बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा… लेकिन उसके लिए, तुम्हे पहले इसे चूसना होगा… इसे अपने मुँह मे लो और चूसो…

मैंने लंड का ऊपर का सूपड़ा अपने मुँह मे लिए और धीरे-धीरे चूसने लगी..

समीर को बहुत मज़ा आ रहा था शायद, क्युकी अब उसके मुँह से भी सिसकारियाँ निकलने लगी थी.

समीर – ओह आ आ आन्न् ननन नन ननन नन नणणन् आ आ आ आ आ आ आ आ अहह मुझे नहीं पता था की लंड चुसवाने मे इतना मज़ा आता हाईई… ओह ई ई लव यू…

करीब 15 मिनिट, ऐसे ही मैं उसका लंड चूसती रही और फिर, वो मेरे मुँह मे ही झड़ गया और झड़ने के समय उसने मेरा मुँह इस तरह से अपने लंड पर दबा दिया की उसका लंड मेरे गले मे घुस रहा था और मेरा साँस लेना भी मुश्किल हो रहा था.

उसका सारा वीर्य सीधा मेरे गले के नीचे उतर रहा था करीब 2 मिनिट के बाद उसने मुझे छोड़ा और मेरी साँस मे साँस आई..

मैंने उसका लंड मुँह से बाहर निकाला और खाँसी करने लगी.. उसे ये देख कर मुझ पर तरस आ गया और वो मेरी पीठ सहलाने लगा और सॉरी बोलने लगा..

2 मिनिट के बाद, मैं अब बिल्कुल ठीक थी अब उसने मुझे फिर से लिटाया और फिर से मेरी चूत चाटने लग गया और 10 मिनिट के बाद, मैं एक बार फिर से झड़ गई..

अब उसने अपना लंड मेरी चूत पर रखा और मेरी चूत पर रगड़ने लगा.. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था..

मैंने उससे कहा की अब और सहन नहीं होता… प्लीज़, इसे अंदर डाल दो और मेरी प्यास बुझा दो पर मैं आगे होने वाले दर्द से अंजान थी…

उसने मेरे मुँह से ऐसा सुन कर एक जोरदार धक्का दिया और उसका लंड मेरी चूत को चीरता हुआ, 3 इंच तक अंदर चला गया और मेरी चीख निकल गई..

उसने जल्दी से मेरे मुँह को बंद करने के लिए मुझे किस करने लगा.. जिसकी वजह से, मेरी आवाज़ उसके मुँह मे ही दब कर रह गई..

मुझे बहुत दर्द हो रहा था मैं उसे पीछे धकेलने लगी थी पर वो नहीं हटा और वैसे ही थोड़ी देर चुप – चाप पड़ा रहा जिसकी वजह से मेरा दर्द कुछ कम हुआ.. अब वो अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा मेरा दर्द अब ठीक था और मुझे थोड़ा मज़ा आने लगा..

ये देख कर, समीर ने धक्के लगाते लगाते एक दम से एक जोरदार धक्का लगाया और उसका पूरा लंड मेरी चूत मे समा गया.

मैं दर्द से चिल्लाना चाहती थी पर उसने मेरा मुँह बंद कर रखा था..

फिर, कुछ देर के बाद वो अंदर बाहर करने लगा.. मुझे दर्द हो रहा था पर अब उस दर्द के साथ एक अजीब सा मज़ा भी आ रहा था..

15 मिनिट तक, वो मुझे ऐसे ही चोद्ता रहा. अब मेरा दर्द ना जाने कहाँ छू मंतर हो गया था और वासना का मज़ा उस दर्द पर भारी हो गया था.

अब मुझे मज़ा आने लगा था और मैं भी अपनी गांड उठा – उठा कर समीर से चुद्वा रही थी.

थोड़ी देर के बाद ही, मैं झड़ गई लेकिन समीर अभी भी नहीं झड़ा था और वो मुझे चोदे जा रहा था.

आ आ आ आ आ आ आ आ आ अहह समीर प्लेस्ई… अब बस करओ अब और सहन नहीं होता आ आ आ आ अ… प्लीज़ बस करो… आ आ आ आ आ आ आ आहह ऊ ऊ ऊ ऊ ऊ ऊ ऊहह बाआ आ आ आ आसस्स्स्स्स् स्स्स्स्स् स्सस्स और 35 मिनिट ऐसे ही चोद्ने के बाद, अब वो झड़ने वाला था..

मैं अब तक 2 बार झड़ चुकी थी, अब उसने अपने धक्को की स्पीड तेज कर दी थी और कमरे मे धाप धपा धाप आवाज़ें गूँज रही थी..

और 5 मिनिट के बाद, वो मेरे अंदर ही झड़ गया और उसका गरम गरम वीर्य मेरे अंदर गिर रहा था.

मुझे ऐसा फील हुआ जैसे मेरे अंदर गरम लावा गिर रहा हो और उसकी गर्मी से मैं तीसरी बार फिर झड़ गई.

अब समीर निढाल हो कर मेरे ऊपर ही पड़ा हुआ था..

फिर जब हम उठे तो मैंने देखा की नीचे बेडशीट खून से सनी हुई थी जो मेरी चूत से निकला था.

हमने जल्दी से वो बेडशीट उतारी और धो दी ताकि किसी को कुछ पता ना लगे और हम आ कर लेट गये.

उस रात हमने 4 बार चुदाई की और सुबह 5 बजे सोए.

सुबह उठे और वहाँ से निकल कर, हम जयपुर वापिस आए और अपने घर चले गये पर उस रात मैं सो नहीं पाई मुझे रह रह कर समीर की याद आ रही थी और समीर का फोन आ गया.. उसे भी नींद नहीं आ रही थी..

उसके बाद, हम मौका देख कर कभी उसके घर मे तो कभी किसी फ्रेंड के रूम मे या होटेल मे चुदाई कर लेते हैं..

अब हम दोनों एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते इसीलिए हमने अपने पेरेंट्स से बात की और वो मान गये हैं..

मेरी पढ़ाई पूरी होते ही, मेरी शादी हो जाएगी और हम हमेशा के लिए एक हो जाएँगे..

Meri Sex Story Ke Sabhi Writers Ka Main Msst Kamini Dil Se Aabhar Vyakat Karti Hoon…

Written by

मस्त कामिनी

Leave a Reply