प्यार मोहब्बत और कुँवारी चूत चुदाई

5 min read

चुदाई करने में बड़ा मजा आता है! और अगर कुँवारी चूत चुदाई हो तो बहुत मजा आता है! Meri Sex Story की इस घटना में मुझे भी कुँवारी चूत चुदाई का हसीन मौका मिला

नमस्कार दोस्तो,

मेरा नाम मन्नूजी है और मैं बिहार का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र अभी 23 साल है। हिमाचल प्रदेश के परवाणू शहर में काम कर रहा हूँ।

मुझे मेरी सेक्स स्टोरी की कहानियाँ बहुत पसंद है! मैं मेरी सेक्स स्टोरी की सारी कहानियों को पढ़ता हूँ। आज मैं भी आपको अपनी सच्ची प्रेम कहानी सुनाने जा रहा हूँ।

माशूका से मन ही मन में हुआ प्यार

रिंकी नाम की एक लड़की मेरे घर के पास रहती थी। उसे मैं मन ही मन में प्यार करता था! लेकिन उसे कभी कह नहीं पाता था।

वो देखने में बहुत ही सुन्दर थी! कॉलेज के सारे लड़के उस पर मरते थे! एक दिन रात को! मैं उसके घर की तरफ से आ रहा था।

उसने मुझे रुकने को बोला, मैं रुक गया! वो मुझसे बोली- मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ! यह सुनकर मैं तो सातवें आसमान में था!

मेरा दिल धक-धक करने लगा! उसने फिर मुझसे पूछा- क्या तुम भी मुझसे प्यार करते हो?

माशूका और मैंने एक दूसरे को चूमा

मैं बहुत हिम्मत करके हाँ! बोल दिया। यह सुनते ही वो मुझे चूमने लगी! मैं भी उसे चूमना शुरू कर दिया! उसके बाद हम दोनों ने एक दूसरे को अलविदा कहा।

वो मुझसे बोली- कल क्रिकेट के मैदान में मिलते हैं! रात को 11:00 बजे! जब सब सो चुके होंगे!

मैंने हाँ! बोल कर चल दिया और घर पर आया। मैंने खाना भी नहीं खाया और पूरी रात उसके बारे में सोचता रहा! किसी तरह पूरी रात गुजारी।

आखिर! वो हसीन रात आ ही गई! रात को उसके बताए हुए, समय से 10 मिनट पहले ही, मैं पहुंच गया था! वो बिल्कुल समय से आ गई!

होंठों के चूम्बन और नाजुक चूचियों को सहलाया

हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे! अब वो क्रिकेट किट कमरे को खोली। चाभी उसके भाई के पास ही रहता था। वो चाभी चुरा कर लाई थी!

अन्दर एक छोटा सा टेबल पड़ा था! हम दोनों ने अन्दर से कमरा बंद कर दिए, और फिर चूमना शुरू किया। हम दोनों एक दूसरे में खो गए!

अब रिंकी मेरे बालों को अपने हाथों से पकड़ कर, जोर जोर से चूमने लगी! मैं भी उसको चूमते हुए उसकी चूचियों को सहलाने लगा।

एक दूसरे के होंठों को चूसते हुए! पांच मिनट हो गए। मैंने धीरे से चूमते हुए उसकी जींस खोल दी। अन्दर का नजारा देख मेरे होश उड़ गए!

चूचियों और चूत को चूसने का आनन्द

उसने पैन्टी नहीं पहनी थी! हल्के रोयेंदार बालों में लिपटी, उसकी छोटी सी मुलायम चूत! अब मेरी उंगलियाँ उसके चूत के ऊपर फिरने लगी।

मुझे जन्नत जैसा मज़ा आ रहा था! उसकी टीशर्ट भी उतार दी! उसकी चूची को चूसना शुरू किया, वो मदहोश होने लगी! अपनी हाथों से मेरे सर को चूची पर जोर जोर से दबाने लगी!

मैं चूची भी चूस रहा था! और एक ऊँगली से धीरे धीरे! उसकी नाज़ुक सी चूत में डाल, अन्दर बाहर कर रहा था!

अब मेरा लौड़ा खड़ा होकर! उसकी उभरती हुई चूत को, सलामी दे रहा था! अब मैं उसकी चूत को चूसना शुरू किया!

कुँवारी चूत की चुदाई की शुरुआत

वो अपनी आँखे बंद कर ली और बोली- मन्नुजी, आज मैं तुम्हारी हो गई! जो करना है कर लो!

मैंने झट से! अपनी जींस उतारी, और अपने लौड़े पर थूक लगा कर उसकी चूत पर टिका दिया। मैं अपने लौड़े को हल्के हल्के उसकी चूत की दीवार पर रगड़ने लगा।

वो पूरी मदहोश हो चुकी थी! अब मैं अपनी उंगली से, उसकी चूत की फाँकों को अलग करके, एक हल्का सा धक्का दिया! वो दर्द से चीख पड़ी!

मैंने झट से! अपने होंठ उसकी होंठों पर रख दिया और चूमने लगा! चूमते चूमते उसकी चूचियों को हल्के हल्के मसलने लगा! वो शांत हो चुकी थी!

सील चूत को फाड़ भोसड़ा बनाया

अब मैंने फिर से, थोड़ा जोर का धक्का दिया! मेरा लौड़ा आधा अन्दर गया! वो दर्द के मारे चिल्लाने लगी! उईई! मम्मा! मरर गैईई! निकालो अपना लौड़ा! मैं नहीं चुदवाऊँगी! चोदना है तो, धीरे से करो! अब मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ!

मैंने धीरे धीरे लौड़े को अन्दर-बाहर करने लगा! और थोड़ा थोड़ा तेज धक्का लगा पूरा लौड़ा उसकी चूत में घुसेड़ दी! उसकी आँखों से आँसू निकल रहे थे! और चूत से खून!

लौड़ा पूरा अन्दर जाने के बाद! 2 मिनट तक रुका रहा! उसके दर्द कम होने लगे। अब मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू किए!

अब वो भी मजे लेने लगी! और अपनी कमर उचका उचका! मेरा लौड़ा अपने चूत के अन्दर ले रही थी! वो सित्कारें लेने लगी- अह! ओह! इस! उफ्फ! फाड़ दो मेरी चूत! आज पूरी चूत फाड़ दो!

वो अब झड़ने वाली थी! उसने मुझे कस कर अपनी बाहों में जकड़ लिया! उसने अपनी नाखून मेरी पीठ पर गड़ा दी थी!

उसकी भी चूत पानी छोड़ चुकी थी! पाँच मिनट बाद! मैं भी छूटने वाला था।

कुँवारी चूत फाड़ माल झाड़ने का मजा

मैंने पूछा- मैं आने वाला हूँ! माल कहाँ निकालूँ?

वो बोली- पहली बार चुदवाई हूँ! तो चूत के अन्दर ही डाल दो!

मैंने माला डी आज दिन में ले ली थी और मैंने माल उसकी चूत में छोड़ दिया! बहुत मज़ा आया!

उसके बाद हम जब भी मिलते हैं। सही मौका देख, या फिर चोरी छुपे चुदाई कर ही लेते हैं!

दोस्तो, मेरी पहली चुदाई की कहानी आप सबको! कैसी लगी? मुझे जरूर मेल करके बताना ,
मेरा ईमेल आई डी है।
[email protected]

जब मैं रिंकी से मिलने गया, तब जाते ही हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे और मैं उसकी कपड़े खोल नाजुक चूचियों को चूसने लगा। अब रिंकी भी उत्तेजित हो उठी और मुझसे चुदने को बेताब हो गई। मैं उसकी चूत चूसने लगा और Meri Sex Story की शुरुआत उसकी कुँवारी चूत की धक्कापेल चुदाई के साथ आरम्भ किया…

Written by

akash

Leave a Reply