दिशा की चुदाई-2

6 min read

मैं दिशा की मालिश करके उसे गर्म करने लगा अब desi sex kahani के इस भाग में मेरी मालिश असर करने लगी क्योंकि दिशा पूरा खुल कर मेरे लंड को मुँह में लेने लगी..

अब तक आपने पढ़ा..

बाथरूम से बाहर निकल के देखा तो उसकी चूत के पानी से पेंटी गीली हो गई थी मैंने उसकी पेंटी को चूसना शुरू कर दिया और तक़रीबन 5 मिनट तक चूसता रहा जैसे ही पेंटी से चूत के रस ख़त्म हुआ मैं कॉफ़ी बनाने चल गया जब मैं कॉफ़ी बना के वापस आया तो देखा दिशा बाथरूम से बहार आ गई थी।

और अपनी बॉडी में आयल से मालिश कर रही थी वो हफ्ते में 1 बार नहाने से पहले ऐसा करती थी मैं दिशा के पास गया उस से तेल को लिया और उसको कॉफ़ी पकड़ा दी और हम दोनों ने कॉफ़ी पी ली।

अब आगे..

कॉफ़ी पिने के बाद मैंने दिशा की बॉडी का तेल से मालिश कर दिया और दिशा भी मेरे बॉडी पे तेल लगा के मालिश करने लगी और मालिश करते करते उसने मेरे लंड को अपने मुह में भर लिया और लंड को चूसने लगी दिशा ने मेरे पूरी बॉडी में तेल लगा दिया था पर लंड पे नहीं लगाया था मैंने सोचा शायद चूसने के लिए ऐसा किया हो पर दिशा ने थोड़ी देर मेरा लंड चूसा और किचन में चली गई और वंहा से उसने हनी का बोतल लाया और मेरे लंड पे हनी डाल के चूसने लगी।

दिशा लंड में हनी टपका टपका के लंड को चूस रही थे तभी मेरे लंड ने पानी छोड दिया और दिशा ने लंड के ऊपर और हनी डाला और सारा का सारा माल हनी के साथ चूस कर पी गई और मेरे सीने पे अपना सर रख कर सो गई।
थोड़ी देर में मैं दिशा की चूत के पास अपना हाथ ले के गया और उसकी चूत को सहलाने लगा और फिर अपनी ऊँगली को हल्का से दिशा की चूत में डाल के अन्दर बहार करने लगा उसकी चूत बहुत ही मुलायम थी। मुझे लगा की जैसे मैं किसी गुलाब के फूल के साथ खेल रहा हूँ।

मैं दिशा के ऊपर आ गया और ऊँगली से दिशा की चूत को धीरे-धीरे चोदने लगा और उधर दिशा के चूची को जोर जोर से चूसने लगा।
दिशा की चूची बहुत ही ज्यादा टाइट हो गई थी। और वो लम्बी लम्बी सांसे भी लेने लगी थी पूरा कमरा गरम सा होने लगा था। मुझे दिशा की गर्म गर्म साँसों का आभास हो गया था। मैं और जोर जोर से दिशा की चूची को चूसने लगा था।

मैंने दिशा की चूत में ऊँगली की रफ़्तार तेज करके चोदने लगा। फिर मैंने दिशा की चूची को छोड़ा और उसकी चूत को चूसने लगा एक ओर तो मैं उसकी चूत में ऊँगली चला रहा था, वंही दूसरी तरफ दिशा की चूत को कुत्ते की तरह चाट रहा था।
दिशा बहुत ही गर्म हो गई थी। क्योकि वो अपनी दोनों टांगो से मेरे सर को दबा दे रही थी। और उत्तेजना में वो मेरे बालो को खीच रही थी।

थोड़ी देर तक दिशा की चूत को ऊँगली से चोदता रहा और उसकी चूत को चूसता रहा, तब तक दिशा 2 बार झड गई थी। मैंने उसका सारा रस चूस लिया था। दिशा पूरी तरह से पागल हो चुकी थी। वो हाँफते हुए बोलने लगी रवि अब देर न करो और डाल दो लंड को मेरी चूत में और चोद डालो अपनी रंडी की चूत को आअह आह आह .…..।

मैंने दिशा के लहसुन को हलके से दातो से कांटा और खड़ा हो गया फिर दिशा की टांगो को उठा के अपने कंधो पर रखा और उसकी चूत में हल्का सा शहद टपका के उसके चूत में अपने लंड का सुपरा रगड़ने लगा।
थोडा सा रगड़ने के बाद लंड को अपनी मंजिल मिल गई और लंड सीधे चूत में घुस गया। लंड का सुपरा चूत में घुसा ही था, तभी मैंने लंड को बहार निकाल लिया और दिशा की चूत को जोर से चूसने लगा, फिर खड़े हो के दिशा की चूत के छेद में लंड रखा और लंड को पेल दिया।

मेरा 7 इंच का लंड सीधे चूत की गहराई में समा गई, जैसे कोई सांप अपनी बिल में….।

मैंने तभी नोटिस किया की दिशा की सील पहले से टूटी हुई है। मैं मन ही मन में सोचने लगा की कितना बड़ा चोदू हूँ। जिसने चुदी हुई चूत को चोदने में कितना लम्बा टाइम वेस्ट कर दिया। मैंने इन बातो को इग्नोर किया और उसकी चुदाई शुरू कर दी।

एक तरफ तो मैं उसकी चूत में लंड पेल रहा था। वहीँ दूसरी तरफ मैं उसकी चूची को मसल रहा था। उसकी चूची के निप्पल को पकड़ के खीच लिया और वो चिल्ला उठी।
उसकी चीख सुनते ही मैंने लंड की स्पीड को बढ़ा दिया और तेज़ी से चूत की चुदाई शुरू कर दी।

15 मिनट की चुदाई के बाद मेरा लंड झड गया। मैंने उसकी चूत के अंदर ही अपने लंड का पानी छोड़ दिया और 5 मिनट तक लंड को उसकी चूत में ही डाले रखा।
मैं उसके ऊपर लेट गया और उसके होठो को चूसने लगा। वो 15 मिनट की चुदाई में 4 बार झड चुकी थी। उसकी चूत का पानी और मेरे लंड का पानी आपस में मिल के जूस बन चुकी थी।

मेरा लंड ढीला हो के दिशा की चूत के बहार निकल गया। मैं दिशा के ऊपर से उठ गया और अपने लंड को कपडे से पोंछ कर किचन में चल गया वंहा से दो गिलास बादाम का जूस लेके आ गया। एक दिशा को दिया और एक खुद पी गया।
जूस पीने के बाद दिशा की चूत को साफ़ कर के किस कर दिया। दिशा के चेहरे पे चुदाई की खुसी थी मनो उसने जन्नत की सैर ली हो।

मैंने बाद में उसकी और चुदाई की वो बाद में बताऊंगा।

ये चुदाई कैसी लगी मुझे जरूर बताये 🙂

दोस्तों मेरी जो सोच थी दिशा की चुदाई के लीये वह एकदम अनोखा साबित हुई जब दिशा मेरे लुंड चुसाई के लीये बेहतर तरीके को अपनाई जिसे मुझे चुसाई में अलग मज़ा आने लगा जिसे इस desi sex kahani के जरिये आपके सामने लाया था.. आप सबों को कैसी लगी मेरी चुदाई लीला अपने खुले कमेंट्स जरुर दें..

Written by

बरबंडस

Leave a Reply