दिशा की चुदाई- 1

(Disha Ki Chudai- 1)

This story is part of a series:

कॉलेज के दिनों में गर्लफ्रेंड को पटा कर चुदाई करने वाली desi sex kahani आप दोस्तों को पसंद हो तो मेरी यह पेशकश जरुर पढ़ें क्योंकि मैंने भी किसी को चोदने के लीये पटाया था..

हैलो दोस्तों मेरा नाम रवि है और आज मैं अपनी कहानी सुनाने जा रहा हूँ ये स्टोरी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड की चुदाई की है जिसका नाम दिशा है । दिशा बहुत ही सेक्सी लड़की है उसके चूची 34 के और गांड की मोटाई 36 की है । दिशा के साथ मेरा रिलेशन मार्च 2015 से शुरू हुआ था उसको मैंने उसकी कॉलेज के बहार ही प्रोपोज़ किया था ।

दिशा आजाद विचारों वाली लड़की है जो अपने घर से दूर MBA की पढाई के लिए पुणे में अपने दो दोस्तों के साथ फ़्लैट किराये पे ले के रहती है । दिशा के दोस्तों का नाम रिया और सोनम है जो साथ में एक ही कॉलेज में MBA की पढाई करती है ।

दिशा और उसके दोस्त एक जैसे ही है वो लोग हमेशा घर में शॉर्ट्स और टी-शर्ट में ही रहते है तीनों बहुत ही सेक्सी है पर सोनम के सामने दोनों पानी कम है कभी कभी सोचता हूँ अगर दिशा के जगह सोनम मेरी गर्लफ्रेंड होती तो मेरी तो लॉट्री ही लग जाती खैर दिशा को भी चोदने में बहुत मज़ा आता है ।
वैसे मैं आपको बता दूँ की दिशा की चूत में लंड डाल के चोदने से ज्यादा मज़ा उसकी गांड की दरारों को चोदने में मज़ा आता है बहुत ही मुलायम और गहरे हैं ।

चलिए मैं अब आपको अपनी कहानी सुनाता हूँ ये कहानी जून 2015 की है जब मैंने दिशा को उसके फ़्लैट में पहली बार चोदा था ।
जून का महीना था जब रिया अपने बॉयफ्रेंड के साथ टूर पर और सोनम अपने घर जा रही थी, तब दिशा ने मुझे बताया की वो दोनों बहार जा रही है, तो मैंने और दिशा ने मिल के चुदाई का प्लान बना लिया तो उसने फ़्लैट का एक डुप्लीकेट चाभी मुझे दिया और मॉर्निंग में 7 बजे से पहले आने को कहा ताकि कोई मुझे देखे न, अगले दिन मैं सुबह 7 बजे से पहले ही दिशा के फ़्लैट पहुंच गया, फ़्लैट की डुप्लीकेट चाभी से मैंने दरवाजा खोला और अंदर चल गया ।

दिशा रूम में लेटी हुई थी, और उसने चद्दर ओढ़ा हुआ था मैंने उसका चद्दर खींच लिया तो देखा दिशा ने सिर्फ ब्लैक कलर की पेंटी पहनी हुई थी और उसके चूची आज़ाद थे, उसने मुझे देख के स्माइल दी और गुड मॉर्निग बोल के चद्दर खींच के फिर ओढ़ लिया और सो गई मैं भी दिशा के बगल में लेट गया और दिशा का चद्दर खीच के ओढ़ लिया और दिशा को अपनी बाहो में भर लिया ।

दिशा अपनी नींद के नशे में ही थे तो मैंने दिशा को ज्यादा परेशान नहीं किया और कुछ देर तक मैं उसके चूची को सहलाते रहा और हल्का हल्का दबा रहा था दिशा के फेस पे हल्की हल्की सी मुस्कान थी शायद उसको भी अच्छा लग रहा था ।

थोड़ी देर में दिशा की नींद का नशा उतरा और उसने मेरे लंड को कस के पकड़ के दबा दिया और मेरे होंठ पे किस दे के उठ गई और अपने कपडे पहनने लगी तभी मैंने उसको टोका ‘क्या कर रही हो..’ उसने कहा ‘अपने कपडे पहन रही हूँ, सुबह हो गई है घर के कुछ काम भी करने हैं..’

Comments

Scroll To Top