सामूहिक चूत चुदाई का आनंद 1

5 min read

बलदीप और संजय दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे। उन्होंने कालेज की हाल ही में नई-नई शुरुआत की थी…

दोनों ही दिखने में एकदम स्मार्ट और सेक्सी थे।

दोनों की दोस्ती रजनी और दीपिका से हुई, वह दोनों भी दिखने में कहीं से कम नहीं थीं।

वक़्त के साथ धीरे-धीरे उनकी दोस्ती आपस में बढ़ने लगी, और कुछ ही समय में वो एक-दूसरे के बहुत करीब आ चुके थे…

अनुमन जैसा की सभी प्रेमी युगल में होता है, उनके रजनी और दीपिका से सेक्स सबंध भी बन चुके थे।

इसी बीच नया वर्ष आ गया तो उन्होंने ने कहीं घुमने जाने के बारे में सोचा, काफ़ी सोच-विचार के बाद उन्होंने मनाली जाकर नया वर्ष मनाने की सोची।

अगली सवेरे सभी अपने-अपने घर से निकल गए और एक जगह इक्कठे हुए।

फिर सभी बलदीप की कार में बैठ कर मनाली के लिए निकल पड़े…

कुछ समय के सफ़र के बाद वो खाने के लिए वह एक होटल में रुके और खाना खाने के बाद वो फिर से अपनी कार की और चल पड़े।

इसके बाद बलदीप ने रजनी को आगे और दीपिका को पीछे संजय के साथ बैठने को कहा और वह फिर से मनाली की और निकल पड़े।

तब संजय ने अपने फ़ोन पर कुछ विडियो डाउनलोड की और दीपिका को दिखाने लगा, पहले तो दीपिका शरमा रही थी पर कुछ ही देर में उसका भी मन मचलने लगा। वही विडियो उसने रजनी को भी दिखाई…

ये तो जाहिर था, दोनों बलदीप और संजय की दीवानी हो चुकी थी।

कुछ ही देर में वो मनाली पहुंचने वाले थे।

सभी आपस में प्यार भरी बातें कर रहे थे, तभी संजय ने दीपिका को अपनी और खींचा और उसके होंठों पर किस करने लगा…

उन दोनों को देखकर बलदीप और रजनी भी उत्साहित हो चुके थे, परन्तु बलदीप ड्राइव कर रहा था इसलिए वो किस तो नहीं कर पाया, परन्तु कभी-कभी हाथ से छेड़खानी जरूर कर रहा था।

कुछ ही देर में वह मनाली के एक होटल में पहुंच गए…

उन्होंने दो कमरे साथ-साथ बुक करवाए और अपने-अपने रूम में सामान रख कर और थोड़ा फ्रेश होकर वो एक ही रूम में पहुंच गए।

रजनी और दीपिका के चेहरे पर एक लाली सी झलक रही थी, जिससे साफ पता चल रहा था कि वो इतनी उत्साहित क्यों है…

दीपिका की सेक्सी लुक किसी को भी बेहोश कर सकती थी, संजय तो बिचारा बेताब हो रहा था, उसको पाने के लिए क्यूंकि उसका सेक्सी बदन संजय को मदहोश कर रहा था।

संजय लगातार दीपिका के सेक्सी बदन को टकटकी लगा कर देख रहा था, तभी दीपिका ने संजय से मुस्कुराते हुए पूछा – आप क्या देख रहे हो?

संजय भी मुस्कराते हुए बोला – मेरी जान, तुम्हारा सेक्सी बदन…

वासना तो दीपिका पर भी हावी थी, दीपिका ने उसको तुरंत बोला – जानेमन, तो अच्छी तरह से ही क्यों नहीं देख लेते।

फिर क्या था संजय दीपिका के और करीब आकर उसको किस करने लगा।

दोनों कामवासना में डूबे एक-दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे और उतेजित होने लगे…

उनको देख कर बलदीप भी मुस्कराया और उसने भी रजनी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए।

रजनी के मन में भी अजीब सी हलचल होने लगी। वह दोनों भी एक-दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे।

देखते ही देखते संजय ने दीपिका का टॉप उतारना शुरू कर दिया, जैसे ही टॉप दीपिका के शरीर से अलग हुआ, वह देखता ही रह गया। उफ़!!! क्या सेक्सी बदन था।

दीपिका के शरीर पर केवल लाल रंग की ब्रा और पैंटी रह गये थे।

संजय ने देर ना करते हुए दीपिका को फिर से चूमना शुरू किया और अपना एक हाथ उसकी ब्रा के अन्दर डाल दिया।

दीपिका भी अब मदहोश होने लगी, उन दोनों को देख कर बलदीप ने भी रजनी को नंगा कर दिया और वो दोनों एक-दूसरे को किस करने लगे। कुछ ही पल में बलदीप भी रजनी की चूचियां चूसने लगा था।

उसने एक हाथ रजनी के बूब्स पर रखा और दूसरा हाथ उसके नीचे की और लेकर जाने लगा, इधर दीपिका भी बिलकुल नंगी होकर संजय के साथ जवानी के मजे लुटने के लिए बेताब हो रही थी…

संजय भी क्यूँ पीछे रहता, उसने अपनी एक उंगली दीपिका की चूत में डाल दी।

दीपिका का बदन अकड़ने लगा और संजय के ऐसा करने से उसने तुरंत पानी छोड़ दिया।

दीपिका की चूत से लगातार रस टपक रहा था और उसकी गीली चूत लण्ड लेने के लिए बेताब थी। दूसरी और रजनी की चूत बलदीप के लण्ड से चुदने को बेकरार थी।

जवानी का नशा सभी के सिर चढ़ कर बोल रहा था…

बलदीप ने अब रजनी से पूछा – कैसा लग रहा है, मेरी जान?

रजनी बोली – अभी तो बहुत मज़ा जा रहा है पर मुझे डर है जब अंदर जाएगा तो जान ही निकाल देगा।

ये बातें सुन कर संजय बोला – अरे बाबली, तू चिंता मत कर, अन्दर भी घुस जायेगा और तुझे भी मज़ा आएगा।

जवानी का नशा और वासना की आग अब अपना नंगा-नाच नाच रही थी और एक ही बेड पर सब नंगे हो चुके थे और चुदाई का सफ़र शुरू होने वाला था।

दोस्तो, अपनी कल्पना के घोड़ों को दौड़ाइए और सोचिए एक ही कमरे में चार जवान नंगे बदन, दो बला की खूबसूरत लड़कियाँ एकदम नंगी, जिनकी चूत में आग लगी हो बस अपने अंदर लण्ड लेने की…

यक़ीनन, क्या दृश्य होगा वो…

चुदाई के इस सफ़र पर हम और आप दोनों साथ चलेंगे, बस थोड़ा सा इंतेज़ार, जल्द ही पेश करूँगा इस सफ़र का अगला भाग…

आपकी राय मुझे अवशय भेजें –

[email protected]

आपका दोस्त
रवि

Written by

akash

Leave a Reply