अंजान टीचर के घर में मज़े किए

10 min read

आपने लड़कियों की चुदाई के बारे में पढ़ा होगा पर Indian Sex Stories की कहानी में मैंने दोस्त की गर्लफ्रेंड की माँ को पूरी तरह जमकर चोदा और अपनी चुदास पूरी की

हाय फ्रेंड्स। मेरा नाम प्रेम है और मैं 21 साल का हूँ। मैं पुणे में रहता हूँ और कॉलेज करता हूँ। सफ़ेद रंग 6′ लम्बाई है और 8।5 इंच बड़ा और 3 इंच मोटा लंड है।

बाकी बहुत से लोग झूठ कहते होंगे, लेकिन मेरा असली साइज़ है। यह भी सच है कि आज तक मैंने 3 चाचियाँ और 4 लड़कियों को संतुष्ट किया है।

उसी में से एक यह थी, अब कहानी शुरू करता हूँ। बात आज से 2 साल पुरानी है जब मैं इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ता था।

एक फ्रेंड की वजह से मुझे यह आंटी मिली, जिसका एक खुद का प्लेग्रूप स्कूल था। आंटी का नाम शिवानी था, जो कि 28 उम्र की और 2 लड़कियों की माँ थी।

उसने खुद को बहुत अच्छे से मेन्टेन किया था, उसका साइज़ एकदम सही का 32 26 34 था। स्लिम और टाइट थी। वो अपनी माँ पापा के साथ रहती थी।

उसका अपनी पति के साथ झगड़ा हुआ था और एक साल से दूर रहते थे, तो हुआ यह कि शिवानी की लड़की उसका नाम साक्षी जो 12वीं में थी।

उसका प्रेमी मेरे कॉलेज में था 12वीं में। उनके पास मोबाइल नहीं थे।

साक्षी माँ का फोन यूज़ करती थी और मेरे दोस्त को मेरे फोन पर का या मैसेज करती थी।

दीवाली की त्यौहार आने वाली थी और उनके एग्जाम के समय थे तो दोनों ने अब बात करनी कम की थी।

मैंने एक दिन उस नंबर पर देखा तो व्हाट्सअप पे फोटो उसकी माँ का था। मुझे लगा साक्षी का है, लकिन जब मेरे दोस्त ने कहा कि वो उसकी माँ है तो मेरे मुँह में पानी आने लगा।

मैंने एक दिन उसपे कॉल किया दूसरे नंबर से तो फ़ोन साक्षी की माँ शिवानी ने उठाया।

मैं (अंजान बनते हुए) कहा- हाय यार, विशाल कब से नंबर लगा रहा हूँ?
वो-कौन बोल रहा है?

मैं- जी आप कौन?

वो- जी फ़ोन आपने किया है, किससे बात करनी है?

मैं- मेरे दोस्त विशाल से, मैंने जानबुझ कर झूठ कहा तो उसने रोन्ग नंबर कह कर फ़ोन काट दिया।

मैंने फिर अगले दिन उसे व्हाट्सअप पे मैसेज किया।

मैं- तुम कौन हो?

वो- आपको क्या करना है, और आपके दोस्त का नंबर नहीं है ये?

मैं- हाँ, लकिन मुझे आपकी आवाज़ बहुत अच्छी लगी! इसीलिए मैसेज किया।

वो- थैंक्स और बाय डोंट मैसेज, लकिन मैंने फिर से मैसेज किया, शायरी टाइप।

वो- मैं मैरिड और माँ हूँ 2 बच्चों की।

मैं- रियली? लेकिन आवाज़ से तो 18 साल की लड़की लगी।

वो- डायलॉग मत मारो।

वैसे अब हमारी बातें शुरू हुई और हम दोस्त बन गए, उसने अपना मोबाइल अब अपनी बेटी को देना छोड़ दिया ताकि मेरे मैसेज ना देखे, फिर हमारी बातें सेक्स की ओर बढ़ने लगी।

एक दिन उसने मेरे लंड का फोटो माँगा क्योंकि उसे विश्वास नहीं था कि वाकई में इतना बड़ा है, तो मैंने दिखा दिया। अब उसकी एक साल की प्यास जाग गई और मेरे से मिलने की इच्छा जताई।

मैंने कहा- तुम ही प्लान करो?

बात करते हमें 2 महीने हुए थे और अब क्रिस्मस आने वाला था तो उसकी दोनों बेटियाँ और माँ पापा क्रिस्मस के लिए बाहर जाने वाले थे।

वो नहीं गई और हम मिलने वाले थे, फिर उस दिन मैं उसे मिलने गया तो दरवाजा उसी ने खोला।

वो येल्लो टाइट टॉप और लेगिस पहन के बैठी थी, उसने दरवाजा बन्द किया और हम सोफे पे बैठ गए।

वो घबरा रही थी और कुछ बोल नहीं रही थी तो मैं ही खुलकर बात करने लगा।

उसने कहा- खाना खाते है चलो, तो वो खाना लगाने किचन में चली गई और मैं भी पीछे पीछे गया और उसे पीछे से पकड़ कर हग किया तो वो डरी और मुझे दूर किया।

मैंने कहा, कि यार डरो मत मैं हूँ!

उसने कहा, कि एकाएक हमले से वो चौंक हुई और फिर से खाना लगाने लगी और मैंने फिर से उसको पीछे से हग किया और इस बार उसने कुछ नहीं कहा और मैंने उसके गर्दन पे किस किया।

उसने आँख बन्द कर सिसकारियाँ लेने लगी, मैंने कान में जीभ डाल कर चाटा तो वो कंट्रोल नहीं कर पाई और मुझे ज़ोर से किस करने लगी और होंठों को काटने लगी।

मैं भी ऐसे हरकत पा के ज़्यादा उत्तेजित हुआ और उसके चूचे ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और मैं उसको उठा के सोफे पे ले गया और टॉप और ब्रा निकाल के चूचे मसलने लगा।

वो चिल्ला चिल्ला के किस कर रही थी और मुझे मीठा दर्द देने में मजा आता है।

मैं पूरी ताकत से मसल रहा था, फिर मैं उसके चूचे चूसने लगा। वो मेरे बाल नोच रही थी और दबा रही थी अपनी चूचे पे।

मैं भी एक चूची ज़ोर ज़ोर से दबाया और दूसरा काट काट के चूस रहा था और वो चिल्ला के मजा ले रही थी और हम पहले तल्ले पे थे।

उसका बड़ा बंगला था इसीलिए आवाज़ कितनी भी हो बाहर नहीं जाती थी।

मैंने फिर धीरे से अपनी दाँतों को उसके पेट और क्लीवेज पर रगड़ के उसे मज़ा देने लगा और नीचे आके उसके नेवेल को किस किए।

वो फिर मचल गई और मैं अपनी जीभ अन्दर डाल कर उसकी नेवेल चाटने लगा और मैंने एक हाथ उसकी पैंट में डाल कर उसकी चूत को हाथ लगाया।

जो पूरी तरह भीग चुकी थी और हाथ लगाने से वो और मचल गई।

मेरे बाल खींचने लगी फिर उसे नंगा किया और उसने मेरा शर्ट और पैंट झट से निकाला, मैं अब सिर्फ़ चड्डी में था। जिसमें पूरा 8।5 इंच का तंबू बना हुआ था, वो उसे मसलने लगी।

मैं फिर से उसे लिटा के उसके पैर चाटने लगा और जाँघो को मसलते हुए आहिस्ता से जाँघो को चाटने लगा और उसके चूत के पास जा के बाजू में चाटा।

मैं उसे तड़पा रहा था फिर धीरे से उसके गांड की तरफ गया और कुल्हों को काटने लगा तो वो बहुत मचल रही थी।

मैं फिर से उसके चूत के पास आया और बिना चाटे ऊपर जाने लगा, तो उसने मुझे पकड़ा और सोफे पे लिटा के मेरे मुँह पे चूत रख दी और रगड़ने लगी।

वो मेरे मुँह पे बैठ कर कभी गांड का होल, तो कभी चूत चटवा रही थी।

मैं भी अंदर जीभ डाल डाल के चाट रहा था, फिर 10 मिनट में उसने मुँह पे ज़ोर बढ़ाया, और मुँह बड़ा करने को चिल्ला के कहा और ज़ोर से हिल हिल के पानी छोड़ दिया।

मेरे मुँह में बहुत सारा पानी जो साल भर से नहीं निकला था, वो भर गया और मैं उसे पी गया और वो हाँफते हुए लेट गई।

15 मिनट बाद मैंने चड्डी निकाला और मेरा लंड देख के वो और उत्तेजित हो गई और झट से उठ के उसे हाथ में लिया और मसलने लगी।

मुझे अब उसके कोमल हाथों की वजह से मजा आने लगा, उसने झट से मुँह में लिया और जोरों से चूसने लगी। उसके मुँह में जा भी नहीं रहा था फिर भी वो हिला के चूस रही थी।

वो धीरे से मेरे बाल को चुसती और फिर जाँघो पे मुँह फिराती और फिर चूसने लग जाती।

मैंने कहा- जब तेरा मन भर जाए तो मुझे कह देना, मैं पानी छोड़ दूँगा तो उसने हैरानी से देखा।

मैंने कहा- मैं संतुष्ट किए बिना नहीं झड़ता तो वो खुश हो गई और ज़ोर से चूसने लगी।

15 मिनट बाद उसने कहा- मुझे तेरा पानी पीना है तो फिर मैंने आँख बन्द की और उसको चूसने को कहा और 5 मिनट उसका सिर पकड़ लिया और बहुत सारा पानी छोड़ दिया।

वो पूरा पी गई और मेरे जाँघ पे गिरा हुआ भी चाट गई और फिर मैं हाँफते हुए लेट गया।

उसने खाना खाने के लिए जाने को पूछा, तो हम मुँह धो के नंगे ही चले गए, खाना खाया और फिर बेडरूम में गए।

अंदर जाते ही परदे बन्द किए और मुझे बेड पे धक्का दे के मेरे मुँह पे बैठ गई और खुद मेरा लंड चूसने लगी तो हम फिर से उत्तेजित हुए।

उसने कहा- अब बस भी यार चोदो मुझे, मैं साल भर से प्यासी हूँ और मेरा ऑपरेशन हुआ है मैं प्रेग्नेंट नहीं होऊँगी।

मैं बहुत खुश हुआ, उसने लेटके टाँगे फैलाई और मेरे लंड को खींचा और अपनी चूत पे रगड़ने लगी। मैं उसकी गर्म भट्टी जैसे गुलाबी चूत का स्पर्श पा के मजा लेने लगा।

मैंने धक्का दिया तो वो चिल्लाई और कहा, धीरे वो बहुत स्लिम थी इसलिए बहुत टाइट चूत थी।

मैंने उसकी कमर को पकड़ा और धीरे से अन्दर डालने लगा 3 इंच डालके रुक गया, वो चिल्ला रही थी मैं उसे किस करने लगा और धीरे से अंदर डालने लगा।

मुझे वर्जिन का और सेक्स का अनुभव होने की वजह से, मैंने अच्छे से हैंडल किया और फिर 5 मिनट शांत रहने क बाद मैंने धक्के देना शुरू किया।

अब उसको मज़ा आने लगा वो मुझे नोचने लगी और ज़ोर से गांड हिला के चुदवाने लगी।

जिससे बचा खुचा लंड भी अन्दर गया और अब हम दोनों मजा लेने लगे और 15 मिनट बाद उसने मुझे ज़ोर से जकड़ा और वो झड़ गई।

वो तीसरी बार झड़ गई और मेरे छाती पे हाथ फिरने लगी, मैंने धक्के थोड़े धीरे किए और उसे ऑर्गॅज़म का मज़ा देने लगा।

5 मिनट धीरे करने के बाद, मैंने लंड हिलाते हुए उसके क्लिंट को आहिस्ता से रगड़ने लगा तो उसे अब डबल मज़ा आने लगा और वो फिर से गर्म हो गई।

मुझे भी उसके पानी की वजह से अच्छी तरल मिल रही थी और मजा आ रहा था।

मैंने पूछा, कि तुम्हें और कितनी बार झड़ना है?

वो बोली, कि नहीं अब बस और एक ही बार और तुम भी निकल दो पानी फिर वो हाँफने लगी पर मैंने लंड निकल दिया।

वो बोली क्यों? तो मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा। वो इंतज़ार नहीं कर सकती थी और झट से पलट गई।

मैंने लंड धीरे से पीछे से चूत में पेल दिया और हिलने लगा और उसको कमर मोड़ कर के गांड फुलाने को कहा।

मैंने अपनी एक उंगली पे थूक लगाके उसके गांड के छेद को सहलाने लगा और वो कहने लगी, मुझे झड़ना है और तुम भी झड़ जाओ।

अब मैंने स्पीड बढ़ा दी और 20 मिनट बाद वो एक हाथ से बेडशीट और दूसरे से मेरे जाँघ को ज़ोर से पकड़ के झड़ गई और हाँफने लगी।

मैं आँख बन्द कर के हिलाने लगा और उसने अपने एक हाथ से मेरे लंड के नीचे डाल के अंडे सहलाने लगी ताकि मैं जल्दी झड़ जाऊँ।

5 मिनट में मैं भी ज़ोर से हाँफते हुए, उसके अंदर झड़ गया और उसके ऊपर लंड अंदर रख क ही लेट गया।

आपको कहानी कैसी लगी? अपने जवाब मुझे जरुर भेजें।
[email protected]

साक्षी के मोबाइल में उसकी माँ की फोटो देख मेरा लण्ड खड़ा हो गया, मैंने रॉंग नंबर के जरिये उसकी माँ को पटाया और उसे चुदाई के लिए कहने लगा। एक दिन Indian Sex Stories की किस्से में उसने क्रिसमस के दिन मुझे बुलाया क्योंकि वो घर पर अकेली थी तो मैंने जमकर उसकी चूत की चुदाई की..

Written by

guruji

Leave a Reply