अंजान टीचर के घर में मज़े किए

(Indian Sex Stories Anjaan Teacher Ke Ghar Mein Maje Kiye)

आपने लड़कियों की चुदाई के बारे में पढ़ा होगा पर Indian Sex Stories की कहानी में मैंने दोस्त की गर्लफ्रेंड की माँ को पूरी तरह जमकर चोदा और अपनी चुदास पूरी की

हाय फ्रेंड्स। मेरा नाम प्रेम है और मैं 21 साल का हूँ। मैं पुणे में रहता हूँ और कॉलेज करता हूँ। सफ़ेद रंग 6′ लम्बाई है और 8।5 इंच बड़ा और 3 इंच मोटा लंड है।

बाकी बहुत से लोग झूठ कहते होंगे, लेकिन मेरा असली साइज़ है। यह भी सच है कि आज तक मैंने 3 चाचियाँ और 4 लड़कियों को संतुष्ट किया है।

उसी में से एक यह थी, अब कहानी शुरू करता हूँ। बात आज से 2 साल पुरानी है जब मैं इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ता था।

एक फ्रेंड की वजह से मुझे यह आंटी मिली, जिसका एक खुद का प्लेग्रूप स्कूल था। आंटी का नाम शिवानी था, जो कि 28 उम्र की और 2 लड़कियों की माँ थी।

उसने खुद को बहुत अच्छे से मेन्टेन किया था, उसका साइज़ एकदम सही का 32 26 34 था। स्लिम और टाइट थी। वो अपनी माँ पापा के साथ रहती थी।

उसका अपनी पति के साथ झगड़ा हुआ था और एक साल से दूर रहते थे, तो हुआ यह कि शिवानी की लड़की उसका नाम साक्षी जो 12वीं में थी।

उसका प्रेमी मेरे कॉलेज में था 12वीं में। उनके पास मोबाइल नहीं थे।

साक्षी माँ का फोन यूज़ करती थी और मेरे दोस्त को मेरे फोन पर का या मैसेज करती थी।

दीवाली की त्यौहार आने वाली थी और उनके एग्जाम के समय थे तो दोनों ने अब बात करनी कम की थी।

मैंने एक दिन उस नंबर पर देखा तो व्हाट्सअप पे फोटो उसकी माँ का था। मुझे लगा साक्षी का है, लकिन जब मेरे दोस्त ने कहा कि वो उसकी माँ है तो मेरे मुँह में पानी आने लगा।

मैंने एक दिन उसपे कॉल किया दूसरे नंबर से तो फ़ोन साक्षी की माँ शिवानी ने उठाया।

मैं (अंजान बनते हुए) कहा- हाय यार, विशाल कब से नंबर लगा रहा हूँ?
वो-कौन बोल रहा है?

मैं- जी आप कौन?

वो- जी फ़ोन आपने किया है, किससे बात करनी है?

मैं- मेरे दोस्त विशाल से, मैंने जानबुझ कर झूठ कहा तो उसने रोन्ग नंबर कह कर फ़ोन काट दिया।

मैंने फिर अगले दिन उसे व्हाट्सअप पे मैसेज किया।

मैं- तुम कौन हो?

वो- आपको क्या करना है, और आपके दोस्त का नंबर नहीं है ये?

मैं- हाँ, लकिन मुझे आपकी आवाज़ बहुत अच्छी लगी! इसीलिए मैसेज किया।

वो- थैंक्स और बाय डोंट मैसेज, लकिन मैंने फिर से मैसेज किया, शायरी टाइप।

वो- मैं मैरिड और माँ हूँ 2 बच्चों की।

मैं- रियली? लेकिन आवाज़ से तो 18 साल की लड़की लगी।

वो- डायलॉग मत मारो।

वैसे अब हमारी बातें शुरू हुई और हम दोस्त बन गए, उसने अपना मोबाइल अब अपनी बेटी को देना छोड़ दिया ताकि मेरे मैसेज ना देखे, फिर हमारी बातें सेक्स की ओर बढ़ने लगी।

एक दिन उसने मेरे लंड का फोटो माँगा क्योंकि उसे विश्वास नहीं था कि वाकई में इतना बड़ा है, तो मैंने दिखा दिया। अब उसकी एक साल की प्यास जाग गई और मेरे से मिलने की इच्छा जताई।

मैंने कहा- तुम ही प्लान करो?

बात करते हमें 2 महीने हुए थे और अब क्रिस्मस आने वाला था तो उसकी दोनों बेटियाँ और माँ पापा क्रिस्मस के लिए बाहर जाने वाले थे।

वो नहीं गई और हम मिलने वाले थे, फिर उस दिन मैं उसे मिलने गया तो दरवाजा उसी ने खोला।

वो येल्लो टाइट टॉप और लेगिस पहन के बैठी थी, उसने दरवाजा बन्द किया और हम सोफे पे बैठ गए।

वो घबरा रही थी और कुछ बोल नहीं रही थी तो मैं ही खुलकर बात करने लगा।

उसने कहा- खाना खाते है चलो, तो वो खाना लगाने किचन में चली गई और मैं भी पीछे पीछे गया और उसे पीछे से पकड़ कर हग किया तो वो डरी और मुझे दूर किया।

मैंने कहा, कि यार डरो मत मैं हूँ!

उसने कहा, कि एकाएक हमले से वो चौंक हुई और फिर से खाना लगाने लगी और मैंने फिर से उसको पीछे से हग किया और इस बार उसने कुछ नहीं कहा और मैंने उसके गर्दन पे किस किया।

उसने आँख बन्द कर सिसकारियाँ लेने लगी, मैंने कान में जीभ डाल कर चाटा तो वो कंट्रोल नहीं कर पाई और मुझे ज़ोर से किस करने लगी और होंठों को काटने लगी।

मैं भी ऐसे हरकत पा के ज़्यादा उत्तेजित हुआ और उसके चूचे ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और मैं उसको उठा के सोफे पे ले गया और टॉप और ब्रा निकाल के चूचे मसलने लगा।

वो चिल्ला चिल्ला के किस कर रही थी और मुझे मीठा दर्द देने में मजा आता है।

मैं पूरी ताकत से मसल रहा था, फिर मैं उसके चूचे चूसने लगा। वो मेरे बाल नोच रही थी और दबा रही थी अपनी चूचे पे।

Comments

Scroll To Top